राजस्थान की कला एवं संस्कृति के महत्वपूर्ण प्रश्न ( 101-150 )

प्रश्न 101. रामानंद सम्प्रदाय की प्रमुख पीठ है- गलता जी ( जयपुर )
प्रश्न 102. निम्बार्क सम्प्रदाय की प्रमुख पीठ है- सलेमाबाद ( अजमेर ), इसे राधावल्लभ सम्प्रदाय व सनकादि सम्प्रदाय भी कहता है
प्रश्न 103. रामस्नेही सम्प्रदाय की पीठे है- 1. रैण (नागौर)-संत दरियाव जी, 2. शाहपुरा (भीलवाड़ा)-संत रामचरण, 3. सिंहथल (बीकानेर)- हरिराम जी, 4. खेड़ापा (जौधपुर)-रामदास जी
प्रश्न 104. पुष्टि मार्ग का प्रमुख केन्द्र है- नाथद्वारा (राजसमन्द)
प्रश्न 105. लाल दासी सम्प्रदाय की प्रमुख पीठ है- नगला (भरतपुर)

प्रश्न 106. जांभोजी ने विश्नोई पंथ को कहा था- प्रहलाल पंथी विश्नोई

प्रश्न 107. शिला देवी का मन्दिर है- जयपुर
विशेष- पूर्वी बंगाल के राजा केदार को हराकर जयपुर के राजा मानसिंह प्रथम यह मूर्ति आमेर (जयपुर) लाये थे
प्रश्न 108. करनी माता का मन्दिर स्थित है- देशनोक (बीकानेर) 
प्रश्न 109. करनी माता किस समाज की कुल देवी है- चारण समाज 
प्रश्न 110. समय अंकित सर्वप्राचीन मनदिर हैशीतलेश्वर महादेव मन्दिर (689 ई.)

प्रश्न 111. राणी सती का मन्दिर है- झुन्झुनू

प्रश्न 112. कैला देवी का मन्दिर है- करौली
प्रश्न 113. जैन स्वर्ण मन्दिर है- फालना गाँव ( पाली )
प्रश्न 114. स्थापत्य कला का जनक था- राणा कुम्भा
प्रश्न 115. राजस्थान का जिब्राल्टर कहते है- तारागढ़ ( अजमेर )

प्रश्न 116. किलो का सिरमौर कहते है- चितौड़गढ़, सोनारगढ़ ( जैसलमेर )

प्रश्न 117. "यह दुर्ग इतनी बुलन्दी पर बसा हुआ है कि नीचे से देखने पर सिर की पगड़ी गिर जाती है" यह कथन किसने व किस दर्ग के लिए कहा था- अबुल फजल ने कुभलगढ़ दुर्ग के लिए
विशेष- अबुल फजल को अकबर का जोनाथन कहा जाता है
प्रश्न 118. मेवाड़ की अाँख कहलाता है- कटारगढ़ ( कुंभलगढ़ )
विशेष- यही राणा प्रताप का जन्म हुआ था
प्रश्न 119. किस दुर्ग के लिए अबुल फजल ने कहा था, अन्य सब दुर्ग नंगे है यह दुर्ग बख्तर बन्द है- रणथम्भौर दुर्ग ( सवाईमाधोपुर )
प्रश्न 120. भवाई नृत्य के जन्मदाता है- बाघा जी

प्रश्न 121. प्रसिद्ध बहरुपिया कलाकार है- जानकीलाल भांड ( भीलवाड़ा ), धनरुप भांड़ ( जौधपुर )

प्रश्न 122. पाटा संस्कृति कहा की देन है- बीकानेर
प्रश्न 123. चारबैंत लोक गायन शैली कहा की है- टोंक
प्रश्न 124. कुचामणी ख्याल के प्रवर्तक थे- लच्छीराम
प्रश्न 125. शेखावाटी ख्याल के प्रवर्तक है- नानूलाल गंधर्व

प्रश्न 126. हेला ख्याल कहा है- सवाईमाधोपुर

प्रश्न 127. कन्हैयालाल ख्याल है- भरतपुर
प्रश्न 128. गुणी जन खाना है- जयपुर के सवाई प्रताप सिंह के समय संगीत के 22 कलाकारो को गंधर्व बाईसी / गुणी जन खाना कहते है
प्रश्न 129. गवरी नृत्य के अन्य नाम है- राई नृत्य, राई पुरिया नृत्य
प्रश्न 130. मारवाड़ के राजा मानसिंह ने किसे जागीर प्रदान की थी- धनरुप भांड

प्रश्न 131. टेरीकोटा की मूर्तियो के लिए प्रसिद्ध स्थान है- मोलेला गाँव ( राजसमंद )

प्रश्न 132. टेरीकोटा की मूर्तियो के लिए प्रसिद्ध कलाकार है- मोहनलाल 
प्रश्न 133. अजरख प्रिंटिग कहा की प्रसिद्ध है- बाडमेर 
प्रश्न 134. बेल बूटों की ठप्पा प्रिंटिग कहा की प्रसिद्ध है- बगरु ( जयपुर )
प्रश्न 135. सागानेरी छीपे कहलाते है- नामदेवी

प्रश्न 136. ब्लेक पाँटरी कहा की प्रसिद्ध है- कोटा

प्रश्न 137. बल्यू पाँटरी कला के प्रसिद्ध कलाकार है- जयपुर के कृपाल सिंह शेखावत व अनिल दोराया
प्रश्न 138. बल्यू पाँटरी कला मुल रुप से कहा की देन है- पर्शिया ( ईरान )
प्रश्न 139. कागजी क्या है- पतले बर्तन बनाने की कला (अलवर )
प्रश्न 140. जस्सा ओडन क्या है- भवाई नृत्य पर आधारित शांता गांधी का नाटक

प्रश्न 141. राजस्थानी भाषा का उद्भव किस अपभ्रंश से है- शौरसेनी अपभ्रंश

प्रश्न 142. देलवाड़ा के जैन मन्दिर स्थित है- माउण्ट अाबू ( सिरोही )
प्रश्न 143. तीर्थो का मामा है- पुष्कर ( अजमेर )
प्रश्न 145. तीर्थो का भांजा है- मंचकुण्ड ( धौलपुर )

प्रश्न 146. बीकानेर मे RTDC का होटल किस नाम से प्रचलित है- ढ़ोला-मारु

प्रश्न 147. अजमेर मे RTDC का होटल किस नाम से प्रचलित है- खादिम,खिदमत
प्रश्न 148. जयपुर मे RTDC का होटल किस नाम से प्रचलित है- गणगौर, स्वागतम, तीज
प्रश्न 149. रम्मते मूल रुप से कहा की देन है- जैसलमेर ( रम्मते बीकानेर मे भी प्रचलित है ) 
प्रश्न 150. होली के अवसर पर रम्मते खेलने वालो को कहा जाता है- खोलर

3 comments:

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।