राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग / National Human Rights Commission / NHRC

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग-

> NHRC का पूरा नाम-
1. Hindi Name- राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग
2. English Name- National Human Rights Commission

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की स्थापना-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की स्थापना 10 अक्टूबर 1993 को की गई थी।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का मुख्यालय-
1. मुख्यालय- नई दिल्ली

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में कुल सदस्य-
1. अध्यक्ष- 1
2. सदस्य- 4
3. कुल सदस्य- 5 (1 अध्यक्ष + 4 सदस्य)

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की लिए अर्हताएं / योग्यताएं-
1. वह सेवानिवृत्त न्यायाधीश होना चाहिए।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष का कार्यकाल-
1. 5 वर्ष
2. 70 वर्ष की आयु
3. इनमें से जो भी पहले हो वही कार्यकाल होगा।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों का कार्यकाल-
1. 5 वर्ष
2. 70 वर्ष की आयु
3. इनमें से जो भी पहले हो वही कार्यकाल होगा।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति राष्टपति द्वारा की जाती है।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की शपथ-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष को शपथ राष्ट्रपति द्वारा दिलायी जाती है।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष का त्याग-पत्र-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष अपना त्याग-पत्र राष्ट्रपति को देता है।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों की नियुक्ति-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों की नियुक्ति राष्टपति द्वारा की जाती है।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों की शपथ-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों को शपथ राष्ट्रपति द्वारा दिलायी जाती है।

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्यों का त्याग-पत्र-
1. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य अपना त्याग-पत्र राष्ट्रपति को देते है।

> भारत में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का प्रथम अध्यक्ष-
1. प्रथम अध्यक्ष- रंगनाथ राव

> राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का वर्तमान अध्यक्ष-
1. वर्तमान अध्यक्ष- न्यायाधीश एचएल दत्तू / H.L. दत्तू

> 10 अक्टूबर-
1. भारत में प्रतिवर्ष 10 अक्टूबर को राष्ट्रीय मानवाधिक दिवस मानाया जाता है।

> 10 दिसम्बर-
1. विश्व में प्रतिवर्ष 10 दिसम्बर को राष्ट्रीय मानवाधिकाक दिवस मनाया जाती है।

2 comments:

  1. Rashtriya manav. aayog ko vinamra prarthna : - Kisi bhi gyati/Dharma ki. har aek aurat (stri)"Ma" hai, uuski ijjat hi hamari ijjat hai, hal hi me Rap kesh bohot. badh. Gaye hai ye dard kya hai? Voh bhugatne vali ma chahe vahi saja apradhi ko honi chahiye or tab hi sahi mayne me saja hogi or ma ki ijjat ke sath jariri. Sanman hoga.

    ReplyDelete

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें