राजस्थान का नामकरण

👉 राजस्थान का नामकरण-
✍ राजस्थान का नामकरण निम्न चरणों में पूरा हुआ

👉 वसंतगढ़ शिलालेख-
✍ यह शिलालेख विक्रम संवत 682 या 625 ई. का है।
✍ वसंतगढ़ शिलालेख सिरोही जिलें की वसंतगढ़ नामक जगह पर स्थित खीमेलमाता या सीमेलमाता के मंदिर से प्राप्त हुआ है।
✍ यह शिलालेख चावड़ा वंश के राजा वर्मलात के द्वारा उत्कीरण करवाया गया था।
✍ इस शिलालेख में ही राजस्थान के लिए पहली बार "राजस्थानीयादित्व" शब्द का प्रयोग किया गया था।

👉 रामायण-
✍ यह विश्व का सबसे प्राचीन तथा सबसे बड़ा महाकाव्य है।
✍ रामायण संस्कृत भाषा में महर्षि वाल्मीकि के द्वारा लिखी गई है।
✍ रामायण को सहस्त्री संहिता तथा आदि महाकाव्य के नाम से भी जाना जाता है।

👉 मरूकान्तर-
✍ रामायण में महर्षि वाल्मीकि के द्वारा राजस्थान के लिए "मरूकान्तर" शब्द का प्रयोग किया था।

👉 जाॅर्ज थाॅमस-
✍ जाॅर्ज थाॅमस ने सन् 1800 में राजस्थान को "राजपूताना" कहा था।
✍ सर्वप्रथम राजपूताना शब्द का प्रयोग करने वाला प्रथम अंग्रेज जाॅर्ज थाॅमस था।
✍ जाॅर्ज थाॅमस की मृत्यु बीकानेर में हुई थी।

👉 विलियम फ्रैंकलिन-
✍ यह मूल रूप से लंदन का निवासी था।
✍ यह जाॅर्ज थाॅमस का मित्र था।
✍ विलियम फ्रैंकलिन ने सन् 1805 में जाॅर्ज थाॅमस के उपर "ए मिलिट्री मेमोरिज आॅफ जाॅर्ज थाॅमस" (A Military Memories of George Thomes) नामक पुस्तक लिखी थी।
✍ इस पुस्तक में विलियम फ्रैंकलिन ने यह बताया था की राजस्थान के सर्वप्रथम राजपूताना कहने वाला विद्वान जाॅर्ज थाॅमस ही था।
✍ विलियम फ्रैंकलिन ने इस पुस्तक का प्रकाशन सन् 1805 में लंदन से किया था।

👉 कर्नल जेम्स टाॅड-
✍ यह मूल रूप से स्काॅटलैंड के निवासी थे।
✍ यह सन् 1817 में सर्वप्रथम राजस्थान आये थे।
✍ सन् 1822 में कर्नल जेम्स टाॅड को मारवाड़ रियासत का पाॅलिटिकल एजेंट बनाकर भेजा गया था।

👉 मानसिंह-
✍ यह जोधपुर के शासक थे।
✍ इनके कहने पर कर्नल जेम्स टाॅड ने राजस्थान के उपर "एनाल्स एण्ड एण्टीक्युटीज ऑफ राजस्थान " नामक पुस्तक लिखी थी।

👉 "एनाल्स एण्ड एण्टीक्युटीज ऑफ राजस्थान "-
✍ यह पुस्तक कर्नल जेम्स टाॅड ने सन् 1829 में लंदन से प्रकाशित की थी।
✍ यह पुस्तक कर्नल जेम्स टाॅड ने अंग्रेजी भाषा में लिखी थी।
✍ इस पुस्तक में कर्नल जेम्स टाॅड ने राजस्थान के लिए पहली बार तीन नये शब्दों का प्रयोग किया था जैसे-
1. रायथान-(अर्थ) शासको का निवास स्थल।
2. रजवाड़ा-(अर्थ) राज्य रजवाड़ो या राजपूतो के कारण कहा जाता है।
3. राजस्थान-(अर्थ) भौगोलिक क्षेत्र के लिए कहा गया था।

👉 The Central & Western Rajput States of India-
✍ यह पुस्तक कर्नल जेम्स टाॅड ने सन् 1832 में लंदन से प्रकाशित की थी।
✍ यह पुस्तक एनाल्स एण्ड एण्टीक्युटीज आॅफ राजस्थान पुस्तक का दूसरा भाग या खण्ड मानी जाती है।

👉 हीराचंद ओझा-
✍ इन्होने कर्नल जेम्स टाॅड की पुस्तकों का हिन्दी में अनुवाद किया था।

👉 यति ज्ञानचन्द्र जैन-
✍ इन्होने कर्नल जेम्स टाॅड को राजस्थान का भ्रमण करवाया था इसीलिए कर्नल जेम्स टाॅड यति ज्ञानचन्द्र जैन को अपना गुरु कहता था।

👉 सामंत व्यवस्था या जागीदारी व्यवस्था-
✍ अर्थ- राजा का बेटा ही राजा होता था।
✍ राजस्थान की सामंत व्यवस्था के बारे में सर्वप्रथम वर्णन कर्नल जेम्स टाॅड ने ही प्रस्तुत किया था।

👉 कर्नल जेम्स टाॅड के उपनाम-
1. घोड़े वाला बाबा
2. राजपूताने इतिहास का पितामह

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।