राजस्थान में घोड़े व घोड़े की नस्लें

👉 राजस्थान में घोड़े व घोड़े की नस्लें-




👉 बीकानेर-
✍ राजस्थान में सर्वाधिक घोड़े बीकानेर जिले में पाये जाते है।

👉 डूंगरपुर-
✍ राजस्थान में सबसे कम घोड़े डूंगरपुर जिले में पाये जाते है।

👉 राजस्थान में घोड़े की नस्लें

1. मालाणी घोड़ा-
✍ विशेषता-
✍ राजस्थान में मालाणी घोड़ा सर्वाधिक जोधपुर, बीकानेर तथा बाड़मेर जिलों में पाया जाता है।
✍ मालाणी घोड़ा राजस्थान में सबसे मजबूत नस्ल का घोड़ा माना जाता है।
✍ महाराणा प्रताप का चैतक घोड़ा भी मालाणी नस्ल का घोड़ा था।

2. काठियावाड़ी घोड़ा-
✍ विशेषता-
✍ राजस्थान में काठियावाड़ी घोड़ा जालोर, सिहोही तथा डूंगरपुर जिलों में पाया जाता है।
✍ काठियावाड़ी घोड़े का रंग बिलकुल सफेद होता है।
✍ काठियावाड़ी घोड़ा राजस्थान में सबसे सुन्दर घोड़ा माना जाता है।

3. मारवाड़ी घोड़ा-
✍ राजस्थान में मारवाड़ी घोड़ा जोधपुर में पाया जाता है।

👉 घोड़े से संबंधित अन्य तथ्य-

👉 केन्द्रिय अश्व प्रजन्न केन्द्र-
✍ स्थित- बीकानेर

👉 घोड़ो का तीर्थ स्थल-
✍ बाड़मेर में स्थित आलमजी के धोरे को घोड़ो का तीर्थ स्थल के नाम से जाना जाता है।

👉 घोड़े की मजार-
✍ अजमेर के तारागढ़ में स्थित पिर सैय्यद खिगसवार की मजार को घोड़ो की मजार कहते है।

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें