सूती वस्त्र उद्योग (भारत के प्रमुख उद्योग)

भारत में सूती वस्त्र उद्योग 
👉सूती वस्त्र उद्योग-
➯भारत में सबसे प्राचीन तथा सबसे बड़ा उद्योग सूती वस्त्र उद्योग है।
➯भारत में सर्वाधिक रोजगार देने वाला उद्योग भी सूती वस्त्र उद्योग है।

👉सिंधु घाटी सभ्यता या हड़प्पा सभ्यता-
➯विश्व में सर्वप्रथम कपास उगाने का श्रेय सिंधु वासियों को दिया जाता है।
➯सिंधु घाटी सभ्यता के लोग कपास को सिण्डन या हिण्डन कहते थे।

👉बाॅम्बे स्पिनिंग एण्ड विविंग कम्पनी-
➯बाॅम्बे स्पिनिंग एण्ड विविंग कम्पनी की स्थापना सन् 1854 में कावसजी डाबर के द्वारा की गई थी।
➯बाॅम्बे स्पिनिंग एण्ड विविंग कम्पनी में उत्पादन सन् 1856 में शुरू हुआ था।
बाॅम्बे स्पिनिंग एण्ड विविंग कम्पनी भारत का दूसरा सूती वस्त्र कारखाना है।
बाॅम्बे स्पिनिंग एण्ड विविंग कम्पनी भारत का पहला सफल सूती वस्त्र कारखाना भी है।

👉गुजरात तथा महाराष्ट्र-
➯भारत में सूती वस्त्र उद्योग में सर्वाधिक प्रसिद्ध राज्य गुजरात तथा महाराष्ट्र है।

👉भारत में सूती वस्त्र उत्पादन में सर्वोच्च तीन राज्य-
1. भारत में सूती वस्त्र उत्पादन में प्रथम स्थान गुजरात का है।
2. भारत में सूती वस्त्र उत्पादन में दूसरा स्थान महाराष्ट्र का है।
3. भारत में सूती वस्त्र उत्पादन में तीसरा स्थान सीमांध्र (आन्द्रप्रदेश) का है।

👉भारत के मैनचेस्टर-
1. भारत का मैनचेस्टर अहमदाबाद (गुजरात) को कहते है।
2. उत्तर भारत का मैनचेस्टर कानपुर (उत्तर प्रदेश) को कहते है।
3. दक्षिण भारत का मैनचेस्टर कोयम्बटूर (तमिलनाडु) को कहते है।
4. पश्चिम भारत का मैनचेस्टर अहदाबाद (गुजराज) को कहते है।

👉अहमदाबाद (गुजरात)-
➯वर्तमान में सर्वाधिक सूती वस्त्र धागा व कपड़े निर्माण का केन्द्र अहमदाबाद में स्थित है इसीलिए अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर, पश्चिम भारत का मैनचेस्टर व भारत का बोस्टन भी कहते है।

👉कानपुर (उत्तर प्रदेश)-
➯कानपुर में उत्तर भारत का सबसे बड़ा सूती वस्त्र उद्योग केन्द्र है इसीलिए कानपुर को उत्तर भारत का मैनचेस्टर कहते है।

👉कोयम्बटूर (तमिलनाडु)-
➯कोयम्बटूर दक्षिण भारत का सबसे बड़ा सूती वस्त्र उद्योग का केन्द्र है इसीलिए कोयम्बटूर को दक्षिण भारत का मैनचेस्टर कहते है।

👉मुम्बई (महाराष्ट्र)-
➯मुम्बई में सर्वाधिक सूती वस्त्र मिले होने के कारण मुम्बई को भारत की सूती वस्त्रों की राजधानी कहा जाता है।

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें