सिक्ख धर्म (सिक्ख धर्म का इतिहास)

सिख धर्म (सिख धर्म का इतिहास) 
👉गुरु नानक देव
➯गुरु नानक देव सिख धर्म के प्रथम गुरु माने जाते है।
➯सिख धर्म की स्थापना 5वीं शताब्दी में गुरु नानक देव ने ही की थी इसीलिए सिख धर्म का संस्थापक गुरु नानक देव को कहते है।

👉तलवंडी (पाकिस्तान)-
➯गुरु नानक देव का जन्म सन् 15 अप्रैल 1469 को पाकिस्तान में रावी नदी के किनारे स्थित तलवंडी नामक गाँव में हुआ था।

👉लंगर प्रथा-
➯सिख धर्म में लंगर प्रथा को गुरु नानक देव ने ही शुरू किया था

👉गुरु अंगद-
➯गुरु अंगद सिख धर्म के दूसरे गुरु माने जाते है।
➯गुरु अंगद को लेहना के नाम से भी जान जाता है।
➯गुरुमुखी लिपि का आविष्कार गुरु अंगद ने ही किया था।

👉गुरु रामदास-
➯गुरु रामदास सिख धर्म के चौथे गुरु माने जाते है।
➯अकबर ने गुरु रामदास को 500 बिघा जमीन दान में दी थी।
➯अमृतसर शहर की स्थापना गुरु रामदास ने ही की थी।
➯अमृतसर शहर पंजाब में स्थित है।

👉गुरु अर्जुन देव-
➯गुरु अर्जुन देव सिख धर्म के पांचवें गुरु माने जाते है।
➯गुरु अर्जुन देव ने सिख धर्म के ग्रंथ 'आदि ग्रंथ' की रचना की थी।
➯मुगल शासक या बादशाह जहांगीर ने गुरु अर्जुन देव को फांसी पर लटका दिया था।

👉स्वर्ण मंदिर-
➯स्वर्ण मंदिर पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित है।
➯स्वर्ण मंदिर वास्तव में गुरु हरिमन्दिर साहिब का का गुरुद्वारा है।
➯स्वर्ण मंदिर पर महाराजा रणजीत सिंह के द्वारा सोने की परत चढ़वाई गई थी।

👉आॅपरेशन ब्लू स्टार-
➯सन् 1984 में श्रीमती इंदिरा गांधी के द्वारा भिंडरवाला नामक आतंकी की फौज से स्वर्ण मंदिर को आजाद करवाने के लिए आॅपरेशन ब्लू स्टार चलाया गया था।

👉गुरु हरगोविंद सिंह-
➯गुरु हरगोविंद सिंह सिख धर्म के छठे गुरु माने जाते है।
➯गुरु हरगोविंद सिंह को सच्चा बादशाह भी कहते है।
➯गुरु हरगोविंद सिंह अपने साथ बाज को भी रखते थे।

👉गुरु हर किशन सिंह-
➯गुरु हर किशन सिंह सिख धर्म के अाठवें गुरु माने जाते है।
➯गुरु हर किशन सिंह को बाला पीर के नाम से भी जाना जाता है।

👉गुरु तेगबहादुर सिंह-
➯गुरु तेगबहादुर सिंह सिख धर्म के नौवें गुरु माने जाते है।
➯गुरु तेगबहादुर सिंह के द्वारा इस्लाम धर्म स्वीकार न करने के कारण मुगल शासक औरंगजेब ने गुरु तेगबहादुर सिंह का दिल्ली की शीशगंज नामक जगह पर सर कटवा दिया था।

👉गुरु गोविंद सिंह-
➯गुरु गोविंद सिंह सिख धर्म के दसवें तथा अंतिम गुरु माने जाते है।
➯गुरु गोविंद सिंह का जन्म पटना में हुआ था।
➯गुरु गोविंद सिंह का गुरुद्वारा महाराष्ट्र की नांदेड़ नामक जगह पर स्थित है।
➯गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की थी।

👉सिख धर्म के 10 गुरु निम्नलिखित है-
क्र.संसिख गुरु का नामजन्मगुरु बनने की तिथिनिर्वाण
1गुरु नानक देव15 अप्रैल 146920 अगस्त 150722 सितम्बर 1539
2गुरु अंदग31 मार्च 15047 सितम्बर 153928 मार्च 1552
3गुरु अमरदास5 अप्रैल 147926 मार्च 15521 सितम्बर 1574
4गुरु रामदास24 सितम्बर 15341 सितम्बर 15741 सितम्बर 1581
5गुरु अर्जुन देव15 अप्रैल 15631 सितम्बर 158130 मई 1606
6गुरु हरगोविंद सिंह14 जून 159525 मई 16063 मार्च 1644
7गुरु हरराय16 जनवरी 16303 मार्च 16446 अक्टूबर 1661
8गुरु हर किशन सिंह7 जुलाई 16566 अक्टूबर 166130 मार्च 1664
9गुरु तेगबहादुर सिंह18 अप्रैल 162120 मार्च 166424 नवम्बर 1675
10गुरु गोविंद सिंह22 दिसम्बर 166611 नवम्बर 16757 अक्टूबर 1708

👉पांच ककार-
➯पांच ककार का अर्थ 'क' शब्द से प्रारम्भ होने वाली उन पांच चीजों से है जिन्हें गुरु गोविंद सिंह के द्वारा रखे गये थे।
➯सिख धर्म के सिद्धांतों के अनुसार सभी खालसा सिखों द्वारा पांच चीजे धारण किये जाते है जैसे- केश, कड़ा, कृपाण, कंघा और कच्छा आदि।
➯इन पांच चीजों के बिना खालसा वेश पूर्ण नहीं माना जाता है।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।