राजस्थान की वेशभूषा

 औरतों के पहनावे (राजस्थानी वेशभूषा)
👉आदिवासी महिलाओं (विवाहित महिला) की ओढ़नी-
1. तारा भांत की ओढ़नी
2. केरी भांत की ओढ़नी
3. लहर भांत की ओढ़नी
4. ज्वार भांत की ओढ़नी

👉कटकी/ पावली भांत की ओढ़नी-
➯आदिवासी अविवाहित महिला (कुंवारी कन्या) के द्वारा ओढ़े जाने वाली ओढ़नी को कटकी/ पावली भांत की ओढ़नी कहते है।

👉जाम साई-
➯आदिवासी महिलाओं की साड़ी को जाम साई कहते है।

👉नादंणा-
➯आदिवासी महिलाओं के घाघरे को नादणा कहते है।
➯नादणा घाघरा राजस्थान में भिलवाड़ा का प्रसिद्ध है।

👉रेनसाई-
➯आदिवासी महिलाओं के घाघरे की छिट को रेनसाई कहते है।

👉सिंदरी-
➯भील स्त्रियों के लाल रंग की साड़ी को सिंदरी कहते है।

👉पिरिया-
➯भील स्त्रियों के द्वारा पहने जाने वाले पीले रंग के लहंगे को पिरिया कहते है।

👉तिलका-
➯तिलका मुस्लिम महिलाओं का पहनावा है।

👉कछाबू-
➯भील स्त्रियों के द्वारा घुटने तक पहने जाने वाले लहंगे को कछाबू कहते है।

👉कवर जोड़-
➯मामा के द्वारा वधु के लिये लाई गई ओढ़नी को कवर जोड़ कहते है।

👉बाला चुनड़ी-
➯मामा के द्वारा वधु की माँ के लिये लाई गई चुनड़ी/ ओढ़नी को बाला चुनड़ी कहते है।

👉पोमचा-
➯पोमचे का रंग पीला होता है।
➯पोमचा राजस्थान में जयपुर जिले का प्रसिद्ध माना जाता है।
➯जच्चा स्त्रियों के द्वारा ओढ़े जाने वाली ओढ़नी को पोमचा कहते है।

👉चीड़/चीढ़ का पोमचा-

➯विधवा महिलाओं के द्वारा ओढ़े जाने वाली काले रंग की ओढ़नी को चीड़ का पोमचा कहते है।

पुरुषों के पहनावे (राजस्थानी वेशभूषा)
👉अंगरखी/ बुगतरी-
➯पुरुषों के शरीर के उपरी भाग में पहने जाने वाले वस्त्र को अंगरखी/ बुगतरी कहते है।

👉ठेपाड़ा/ढेपाड़ा-
➯भील पुरुषों के द्वारा पहनी जाने वाली तंग धोती को ढ़ेपाक कहते है।

👉पोत्या-
➯भील पुरुषों के साफे को पोत्या कहते है।

👉खोयतू/खयोतू-
➯भील पुरुषों के द्वारा बांधे जाने वाली लंगोटी को खोयतू/ खयोतू कहते है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
👉आतम सुख-
➯तेज सर्दी से बचने के लिये ओढ़े जाने वाले वस्त्र को अात्मसुख कहते है।

👉खपट्टा-
➯शहरीया जनजाती के साफे को खपट्टा कहते है।

👉गोटे के प्रकार-
1. लप्पा
2. लप्पी
3. किरण
4. बांकड़ी
5. नोदाणी
6. सतदानी
7. बिजिया

👉गोटा उद्योग-
➯राजस्थान में गोटा उद्योग खण्डेला (सीकर) का प्रसिद्ध है।

👉लुगड़ा-
➯राजस्थान में लुगड़ा पाटोदा (सीकर) का प्रसिद्ध है।

👉बंधेज-
➯राजस्थान में बंधेज का सर्वाधिक कार्य सुजानगढ़ (चूरू) में किया जाता है।
➯राजस्थान में बंधेज की सबसे बड़ी मंडी जोधपुर में स्थित है।

👉पगड़ी-
➯पगड़ी को प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है।
➯पगड़ी को पागा तथा पेचा भी कहते है।
➯राजस्थान में पगड़ी उदयपुर जिले की प्रसिद्ध मानी जाती है।
➯विश्व की सबसे बड़ी पगड़ी बागौर संग्रहालय (उदयपुर) में रखी हुई है।

👉चपटी-
➯उदयपुर की पगड़ी को चपटी कहते है।

👉खूंटेदार-
➯जयपुर की पगड़ी को खूंटेदार कहते है।

👉छज्जादार-
➯मारवाड़ा की पगड़ी को छज्जादार कहते है।

👉छाबदार-
➯मेवाड़ में पगड़ी बांधने वाले को छाबदार कहते है।

👉केसरिया पगड़ी-
➯केसरिया पगड़ी केवल राजा के द्वारा ही पहनी जाती थी।

👉कसूमल रंग की पगड़ी-
➯कसूमल रंग की पगड़ी युद्ध के समय पहनी जाती थी।

👉लाल रंग की लहरीदार पगड़ी-
➯लाल रंग की लहरीदार पगड़ी राजघराने के लोगो के द्वारा पहनी जाती थी।

👉पगड़ी के प्रकार-
1. उदयशाही
2. जसवंतशाही
3. भिमशाही
4. डुगरशाही
5. राजशाही
6. मंदिल



👉साफा-
➯राजस्थान में साफा जोधपुर जिले का प्रसिद्ध है।

👉जोधपुरी कोट पेन्ट-
➯जोधपुरी कोट पेन्ट को राष्ट्रीय पौशाक का दर्जा दिया गया है।

👉पंच रंग पाग-
➯पंच रंग पाग का शुभ अवसरों पर पहना जाता है।

Study Notes Links
India GK Click here
World GK Click here
Current GK Click here
Rajasthan GK Click here
General Science Click here
Important Links Links
Results Click here
Syllabus Click here
Admit Card Click here
Answer Key Click here
Job Notification Click here

2 comments:

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें