माही नदी

माही नदी
👉माही नदी का उद्गम स्थल-
➯मध्य प्रदेश के धार जिले में सरदारपुरा के मिन्डा गांव के निकट विंध्याचल पर्वत श्रेणी में स्थित मेहद झील से माही नदी निकलती है।

👉भारत में माही नदी का बहाव क्षेत्र या प्रवाह क्षेत्र-
➯भारत में माही नदी क्रमशः मध्य प्रदेश, राजस्थान तथा गुजरात तीन राज्यों में बहती है।

👉राजस्थान में माही नदी का बहाव क्षेत्र-
➯राजस्थान में माही नदी बांसवाड़ा, प्रतापगढ़ तथा डूंगरपुर जिलों में से बहने के बाद गुजरात में खम्भात की खाड़ी (अरब सागर) में गिर जाती है।
➯माही नदी राजस्थान में बांसवाड़ा जिले के खांदू गांव में प्रवेश करती है।
➯राजस्थान में माही नदी के प्रवाह क्षेत्र या बहाव क्षेत्र को छप्पन का मैदान कहते है।

👉माही नदी के उपनाम या अन्य नाम-
1. वागड़ की गंगा
2. कांठल की गंगा
3. दक्षिण राजस्थान की स्वर्ण रेखा
4. आदिवासियों की गंगा

👉माही नदी की कुल लम्बाई-
➯भारत में माही नदी की कुल लम्बाई 576 किलोमीटर है।
➯राजस्थान में माही नदी की कुल लम्बाई 171 किलोमीटर है।

👉माही नदी की सहायक नदियां-
1. इरू नदी
2. सोम नदी
3. जाखम नदी
4. अनास नदी
5. हरण नदी
6. चाप नदी
7. मोरेन व भादर नदी
➯माही नदी की सहायक नदियों में इरू नदी माही नदी में माही बांध से पहले मिल जाती है तथा शेष सभी सहायक नदियां माही बांध के बाद इसमें आकर मिलती है।
➯चाप नदी व अनास नदी माही नदी में बायीं तरफ से तथा शेष सहायक नदियां दायीं ओर से मिलती है।

👉कर्क रेखा-
➯माही नदी एकमात्र ऐसी नदी है जो कर्क रेखा को अंर्राष्ट्रीय स्तर पर दो बार काटती है या दो बार पार करती है।

👉डूंगरपुर तथा बांसवाड़ा-
➯माही नदी राजस्थान के डूंगरपुर तथा बांसवाड़ा जिलों के बीच से गुजर कर सीमा बनाती है।

👉माही बजाज सागर बांध-
➯माही बजाज सागर बांध राजस्थान का सबसे लम्बा बांध है।
➯माही बजाज सागर बांध माही नदी पर राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के बोरखेड़ा गांव में स्थित है।
➯माही बजाज सागर बांध की कुल लम्बाई 3109 मीटर है।
➯माही बजाज सागर बांध से माही बजाज सागर बांध परियोजना निकाली गई है जो की गुजरात तथा राजस्थान के बीच चल रही है।
➯माही बजाज सागर बांध परियोजना से राजस्थान के डूंगरपुर तथा बांसवाड़ा जिले लाभांवित होते है।

👉कागदी पिकअप बांध-
➯कागदी पिकअप बांध माही नदी के उपर बांसवाड़ा जिले में स्थित है।

👉माही साइफन बांध-
➯माही साइफन बांध माही नदी पर डूंगरपुर जिले में स्थित है।
➯माही साइफन बांध से भीखाभाई सागवाड़ा परियोजना निकाली गई है।
➯भीखाभाई सागवाड़ा परियोजना डूंगरपुर जिले में चल रही है।

👉त्रिवेणी संगम-
➯डूंगरपुर जिले की साबला सहसील के नवाटापरा गांव में सोम, माही व जाखम तीनों नदियों का त्रिवेणी संगम स्थित है।

👉बेणेश्वर धाम-
➯सोम, माही व जाखम नदियों के त्रिवेणी संगम पर डूंगरपुर जिले की साबला तहसील के नवाटापरा गांव में ही बेणेश्वर धाम स्थित है।
➯बेणेश्वर धाम पर प्रतिवर्ष संत मावजी की याद में माघ पूर्णिमा के दिन मेला लगता है। 
➯बेणेश्वर धाम को आदिवासियों का कुम्भ तथा बागड़ का पुष्कर कहा जाता है।
➯बेणेश्वर धाम की स्थापना संत मावजी ने की थी।

👉दक्षिणी राजस्थान-
➯माही नदी दक्षिणी राजस्थान की प्रमुख नदी मानी जाती है।

👉गुजरात-
➯माही नदी रामपुरा के पास पंचमहल (गुजरात) नामक स्थान पर गुजरात में प्रवेश करती है।
➯माही नदी पर पंचमहल (रामपुरा, गुजरात) में कडाना बांध बनाया गया है।

👉माही नदी का समापन या मुहाना-
➯माही नदी गुजरात में से बहते हुई अन्त में खंभात की खाड़ी (अरब सागर) में गिर जाती है।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।