Type Here to Get Search Results !

गुप्त वंश या गुप्त साम्राज्य

गुप्त वंश

भारत में गुप्त वंश का उदय तीसरी सदी के अन्त में प्रयाग के निकट कौशाम्बी में हुआ था।

1. श्री गुप्त-
➧भारत में गुप्त वंश की स्थापना श्री गुप्त ने की थी इसीलिए श्री गुप्त को गुप्त वंश का संस्थापक कहते है।
➧श्री गुप्त ने अपने राजधानी अयोध्या को ही बनाया था।
➧अयोध्या सरसू नदी के किनारे स्थित है।
➧महाराजा की उपाधि सर्वप्रथम श्री गुप्त ने ही धारण की थी।
➧श्री गुप्त को गुप्तों का आदिराज भी कहते है।

2. घटोत्कच-
➧घटोत्कच श्री गुप्त का पुत्र था।
➧श्री गुप्त के बाद गुप्त वंश का अगला शासक घटोत्कच बना था।

3. चन्द्रगुप्त-I
➧चन्द्रगुप्त प्रथम घटोत्कच का पुत्र था।
➧घटोत्कच के बाद गुप्त वंश का अगला शासक चन्द्रगुप्त प्रथम बना था।
➧महाराजाधिराज की उपाधि सर्वप्रथम चन्द्रगुप्त प्रथम ने ही धारण की थी।
➧गुप्त वंश का वास्तविक संस्थापक चन्द्रगुप्त प्रथम को माना जाता है।

➧राजा रानी के सिक्के-
➧भारत में सर्वप्रथम रानी की याद में सिक्के चलाने वाला पहला शासक चन्द्रगुप्त प्रथम था।
➧चन्द्रगुप्त प्रथम ने अपनी रानी कुमार देवी की याद में सिक्के चलाये थे उन सिक्कों को राजा रानी के सिक्के कहा गया था।

➧गुप्त संवत-
➧गुप्त संवत 319 ई. में चन्द्रगुप्त प्रथम के द्वारा शुरू किया गया था तथा गुप्त संवत को वल्लभी संवत् भी कहते है।

➧गुप्त संवत-
➧शक संवत कुषाण वंश के राजा कनिष्क के द्वारा 78 ई. में शुरू किया गया था।
➧गुप्त संवत तथा शक संवत के बीच 241 वर्षो का अन्तर पाया जाता है।

➧प्रभावती-
➧चन्द्रगुप्त प्रथम की पुत्री का नाम प्रभावती गुप्त था।
➧प्रभावती गुप्त भारत की प्रथम हिंदू महिला शासिका मानी जाती है।

4. समुद्रगुप्त-
➧समुद्रगुप्त चन्द्रगुप्त प्रथम का पुत्र था।
➧समुद्रगुप्त ने कवीराज की उपाधि धारण की थी।
➧समुद्रगुप्त को 100 युद्धों का विजेता भी कहते है।
➧अश्वमेध यज्ञ सर्वप्रथम समुद्रगुप्त ने ही करवाया था।
➧अंग्रेजी इतिहासकार विन्सेंट स्मिथ ने अपनी पुस्तक भारत का प्रारंभिक इतिहास (The Early History of India) में समुद्रगुप्त को भारत का नेपोलियन कहा था।
➧समुद्रगुप्त के दरबारी इतिहासकार हरिषेण के द्वारा ही प्रयाग प्रशस्ति लिखी गई है।
➧प्रयाग प्रशस्ति में समुद्रगुप्त की प्रशंसा की गई है।

➧एरण अभिलेख-
➧एरण अभिलेख समुद्रगुप्त से संबंधित है।
➧एरण अभिलेख में भारत में पहली बार सत्ती होने के प्रमाण प्राप्त हुआ है।
➧एरण अभिलेख में समुद्रगुप्त के सैनापती भानुगुप्त की पत्नी के द्वारा सत्ती होने का प्रमाण मिलता है।

5. चन्द्रगुप्त-II
➧चन्द्रगुप्त द्वितीय समुद्रगुप्त का पुत्र था।
➧चन्द्रगुप्त द्वितीय ने अपने बड़े भाई रामगुप्त की हत्या करके गुप्त वंश की गद्दी प्राप्त की थी।

➧चन्द्रगुप्त द्वितीय के द्वारा धारण की गई उपाधियां-
1. देवराज/ देवगुप्त
2. परमभागवत
3. विक्रमाद्वित्य
4. शकारी

➧नवरत्न-
➧चन्द्रगुप्त द्वितीय के दरबार में 9 विद्वानों की मण्डली रहती थी जिन्हें नवरत्न कहते थे।
➧चन्द्रगुप्त द्वितीय के दरबारी नवरत्नों में कालिदास, बेतालभट्ट, वराहमिहिर, धन्वन्तरी प्रमुख नवरत्न थे।

➧कालिदास-
➧कालिदास भारत के सुप्रसिद्ध उपन्यासकार थे।
➧कालिदास को भारत का शेक्सपियर भी कहा जाता है।
➧कालिदास के द्वारा रचित प्रमुख ग्रंथ-
1. रघुवंशम्/ रघुवंश
2. कुमारसंभवम्/ कुमारसंभव
3. मालविकाग्रिमित्रम्
4. अभिज्ञान शाकुंतलम्
5. मेघदूतम्

➧धन्वन्तरी-
➧धन्वन्तरी चन्द्रगुप्त द्वितीय के दरबारी चिकित्सक थे।
➧धन्वन्तरी को भारतीय चिकित्सा का जनक भी कहते है।

➧महरौली स्तंभ-
➧महरौली स्तंभ दिल्ली में स्थित है।
➧महरौली स्तंभ धातु एवं रसायन कला का सर्वोच्च उदाहरण माना जाता है। क्योकी महरौली स्तंभ पर आज तक जंग नही लगा है।

➧ताम्रलिप्ति बंदरगाह-
➧ताम्रलिप्ति बंदरगाह गुप्त काल का सुप्रसिद्ध बंदरगाह था।

➧फाह्यान-
➧भारत में आने वाला प्रथम चीनी यात्री फाह्यान ही था।
➧फाह्यान चन्द्रगुप्त द्वितीय के काल में भारत आया था।

➧फो-यू-की-सी
➧फो-यू-की-सी पुस्तक फाह्यान के द्वारा लिखी गई थी।
➧फो-यू-की-सी पुस्तक में गुप्त वंश के इतिहास का पता चलता है।

➧ब्राह्मणों का देश-
➧फाह्यान ने मध्य प्रदेश को ब्राह्मणों का देश कहा था।

➧कौड़ियां-
➧फाह्यान के अनुसार भारत या गुप्त काल में लेन देन या व्यापार के रूप में सर्वाधिक उपयोग कौड़ियों का ही होता था।

➧विक्रम संवत-
➧विक्रम संवत 57 ई. में चन्द्रगुप्त द्वितीय के द्वारा शुरू किया गया था।

6. कुमारगुप्त-
➧कुमारगुप्त को परमभट्टारक तथा महेन्द्रा द्वितीय के नाम से भी जाना जाता है।
➧गुप्त शासकों में सर्वाधिक अभिलेख कुमार गुप्त के ही है।

➧नालंदा विश्वविद्यालय-
➧नालंदा विश्वविद्यालय विश्व का प्रथम आवासीय विश्वविद्यालय था।
➧नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना कुमारगुप्त ने की थी।
➧नालंदा विश्वविद्यालय बिहार की राजगीर नामक स्थान पर स्थित है।
➧नालंदा विश्वविद्यालय बौद्ध शिक्षा के लिए प्रसिद्ध था।

7. विष्णुगुप्त-
➧विष्णुगुप्त गुप्त वंश का अंतिम शासक था।

Post a Comment

4 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. Thank you so much..🙏🙏
    Source ky h inka vese__trustable h ky

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, gkclass.com में आपका स्वागत है।, आप gkclass.com पर भरोसा रखे यहां पर आपको अच्छी अध्ययन सामग्री मिलेगी।

      Delete

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।

Top Post Ad

Below Post Ad