भारत के केंद्र-शासित प्रदेश


➧भारत के केन्द्र-शासित प्रदेश
➧भारत में वर्तमान में कुल 7 केन्द्र-शासित प्रदेश है जो की निम्नलिखित है।

1. दिल्ली
2. लक्षद्वीप
3. पुदुच्चेरीय/पॉण्डिचेरी
4. चण्डीगढ़
5. दमन और दीव
6. दादरा और नगर हवेली
7. अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह

1. दिल्ली-
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी भारत के दो मात्र ऐसे केन्द्र-शासित प्रदेश जिनकी स्वयं की विधानसभाएं है।
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी दोनों को आधे राज्य का दर्जा दिया गया है अर्थात् दिल्ली व पुदुच्चेरी दोनों आधे राज्य एवं आधे केन्द्र-शासित प्रदेश है।
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी दों मात्र ऐसे केन्द्र-शासित प्रदेश है जिनकी विधानसभाओं के सदस्य राष्ट्रपती के चुनाव में भाग ले सकते है।
➧दिल्ली का प्रशासनिक मुख्या उप-राज्यपाल होता है।

2. लक्षद्वीप-
➧भारत में क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा केन्द्र-शासित लक्षद्वीप है।
➧लक्षद्वीप का कुल क्षेत्रफल 32 वर्ग किलोमीटर है।
➧लक्षद्वीप को अमीनी द्वीप के नाम से भी जाना जाता है। क्योकी लक्षद्वीप का प्राचीन नाम अमीनी द्वीप था।
➧लक्षद्वीप की राजधानी कवारती है।
➧भारत में सबसे बड़ी प्रवाल भित्ति या मुंगे की चट्टान (Coral Reef) लक्षद्वीप है क्योकी लक्षद्वीप प्रवाल या मुंगे से निर्मित चट्टान है।
➧विश्व में सबसे बड़ी प्रवाल भित्ति या मुंगे की चट्टान (Coral Reef) ग्रेट बैरियर रीफ है।
➧ग्रेट बैरियर रीफ ऑस्ट्रेलिया में स्थित है।
➧लक्षद्वीप के प्रशासनिक मुखिया को प्रशासक कहते है।

3. पुदुच्चेरी-
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी भारत के दो मात्र ऐसे केन्द्र-शासित प्रदेश जिनकी स्वयं की विधानसभाएं है।
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी दोनों को आधे राज्य का दर्जा दिया गया है अर्थात् दिल्ली व पुदुच्चेरी दोनों आधे राज्य एवं आधे केन्द्र-शासित प्रदेश है।
➧दिल्ली व पुदुच्चेरी दों मात्र ऐसे केन्द्र-शासित प्रदेश है जिनकी विधानसभाओं के सदस्य राष्ट्रपती के चुनाव में भाग ले सकते है।
➧पुदुच्चेरी का प्रशासनिक मुख्या उप-राज्यपाल होता है।
➧पुदुच्चेरी भारत का एकमात्र ऐसा केन्द्र-शासित प्रदेश है जिसका फैलाव या विस्तार उसकी सीमा से बाहर या तीन राज्यों में पड़ता है। जैसे-
(अ) यनम जिला- पुदुच्चेरी का यनम जिला भौगोलिक रूप से आंद्र-प्रदेश में स्थित है।
(ब) माहे जिला- पुदुच्चेरी का माहे जिला भौगोलिक रूप से केरल में स्थित है।
(स) कराईकल जिला- पुदुच्चेरी का कराईकल जिला भौगोलिक रूप से तमिलनाडु में स्थित है।

➧विशेष-
➧क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा जिला कच्छ जिला है जो की गुजरात में स्थित है।
➧क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे छोटा जिला माहे जिला (पुदुच्चेरी) है जो की केरल में स्थित है।
➧भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पण्डित जवाहर लाल नेहरू ने पुदुच्चेरी को फ्रांसीसी संस्कृति की खिड़की कहा था।
➧पुदुच्चेरी की स्थापना करने का श्रेय फ्रांसीसी नागरिक फ्रेंको मार्टिन को दिया जाता है।
➧फ्रेंको मार्टिन ने सन् 1697 में पुदुच्चेरी की स्थापना की थी।

4. चण्डीगढ़-
➧चण्डीगढ़ के प्रशासनिक मुखिया को प्रशासक कहते है।

5. दमन और दीव-
➧दमन और दीव के प्रशासनिक मुखिया को प्रशासक कहते है।

6. दादर और नगर हवेली-
➧दादर और नगर हवेली के प्रशासनिक मुखिया को प्रशासक कहते है।

7. अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह-
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह का प्रशासनिक मुखिया उप-राज्यपाल होता है।
➧क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा केन्द्र-शासित प्रदेश अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह है।
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह का कुल क्षेत्रफल 8,249 वर्ग किलोमीटर है।
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह की राजधानी पोर्ट ब्लेयर है।
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह की सबसे  ऊंची चोट्टी सैडल पीक है।
➧सैडल पीक चोट्टी की कुल ऊंचाई 732 मीटर है।
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह में ओंगी जनजाती, सेण्टीनली जनजाती, जारवा जनजाती, शोम्पेन जनजाती आदी जनजातीयां पायी जाती है। तथा यह जनजातीयां इन्ही नामों से नृत्य भी करती है जैसे- ओंगी जनजाती ओंगी नृत्य करती है, सेण्टीनली जनजाती सेण्टीनली नृत्य करती है, जारवा जनजाती जारवा नृत्य करती है, शोम्पेन जनजाती शोम्पेन नृत्य करती है।
➧भारत का सबसे बड़ा सक्रिय ज्वालामुखी बैरन द्वीप या बैरन ज्वालामुखी है।
➧बैरन ज्वालामुखी निकोबार में स्थित है।


➧विशेष-
➧शहीद-स्वराज द्वीप-
➧नेताजी सुभाषचन्द्र बोस ने अण्डमान को शहीद द्वीप तथा निकोबार को स्वराज द्वीप का दर्जा दिया था।
➧सुभाष चंद्र बोस को नेताजी की उपाधी जर्मनी के तानाशाही शासक एडोल्फ हिटलर ने दी थी।

➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह के उपनाम-
➧अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह को मरकत द्वीप तथा एमराल्ड द्वीप के नाम से भी जाना जाता है।
➧अंग्रेजों के समय अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह को दण्ड काॅलोनी के नाम से भी जाना जाता था क्योकी अंग्रेजों की प्रसिद्ध सेन्ट्रल जेल निकोबार के मरकत द्वीप में स्थित थी।
➧निकोबार के मरकत द्वीप में स्थित सेन्ट्रल जेल काले पानी की सजा के लिए प्रसिद्ध थी

➧अंग्रेजों के समय की प्रमुख सजाओं के नाम-
1. काले पानी की सजा- अण्डमान निकोबार
2. सफेद पानी की सजा- सियाचिन (जम्मू-कश्मीर)

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें