भारत का पश्चिमी घाट

भारत के प्रमुख घाट (भारत के तटीय क्षेत्र या मैदान)

भारत में घाट के प्रकार-
➧भारत में घाट को दो भागों में बांटा गया है। जैसे-

1. पूर्वी घाट
2. पश्चिमी घाट


2. पश्चिमी घाट-
➧पश्चिमी घाट को सह्माद्री घाट या सह्माद्री भी कहते है।
➧भारत में हिमालय के बाद दूसरी सबसे लम्बी पर्वतमाला पश्चिमी घाट ही है।


जैव विविधता-
➧जैव विविधता की परिभाषा- जीव जन्तुओं में पाई जाने वाली विभिन्नता को जैव विविधता कहते है।
➧भारत में सर्वाधिक जैव विविधता हिमालय में पायी जाती है।
➧हिमालय के बाद भारत में सर्वाधिक जैव विविधता पश्चिमी घाट में पायी जाती है।

पर्वतीय वर्षा-
➧भारत में सर्वाधिक पर्वतीय वर्षा होती है।
➧भारत में पश्चिमी घाट पर्वतीय वर्षा के लिए प्रसिद्ध है।

मेघालय-
➧भारत में सर्वाधिक वर्षा मेघालय में होती है।
➧भारत में सर्वाधिक वर्षा वाला स्थान मेघालय का मौसिनराम है। जिसका मुख्य कारण गारो, खासी या जयंतिया पहाड़ियों की अत्यधिक ऊंचाई एवं अत्यधिक धारदार होने के कारण होती है।
➧मेघालय के मौसिनराम में सर्वाधिक वर्षा बंगाल की खाड़ी वाले मानसून से होती है।

पश्चिमी घाट के भाग-
➧पश्चिमी घाट को कुल 4 भागों में बांटा गया है। जैसे-
(1) काठियावाड़ तट
(2) कोंकण तट
(3) कन्नड़ तट
(4) मालाबार तट

(1) काठियावाड़ तट-
➧काठियावाड़ तट का विस्तार गुजरात की सोराष्ट्र नामक जगह से लेकर गुजरात की सुरत नामक जगह तक पड़ता है।
➧काठियावाड़ तट को गुजरात तट के नाम से भी जाना जाता है।

कच्छ की खाड़ी तथा खम्भात की खाड़ी-
➧कच्छ की खाड़ी तथा खम्भात की खाड़ी दोनों खाड़िया काठियावाड़ तट पर गुजरात में स्थित है।

काण्डला बंदरगाह-
➧काण्डला बंदरगाह काठियावाड़ तट पर गुजरात में स्थित है।
➧काण्डला बंदरगाह भारत में एक ज्वारीय बंदरगाह है।
➧काण्डला बंदरगाह भारत में रसायनिक बंदरगाह के नाम से भी जाना जाता है।

ज्वार भाटा-
➧समुद्र की लहरों का दिन में दो बार उपर नीचे होना ही ज्वार भाटा कहलाता है।
➧ज्वार भाटा आने का कारण सर्य, पृथ्वी तथा चन्द्रमा के गुरुत्वाकर्षण बल के कारण आता है।
➧भारत का सबसे ऊंचा ज्वार भाटा काण्डला बंदरगाह (ओखा तट, गुजरात) में आता है।
➧विश्व का सबसे ऊंचा ज्वार भाटा फण्डी की खाड़ी में आता है।
➧फण्डी की खाड़ी कनाडा व अमेरिका के बीच स्थित है।

सरक्रीक (गुजरात)-
➧गुजरात का सरक्रीक क्षेत्र काठियावाड़ तट पर स्थित है।
➧गुजरात का सरक्रीक क्षेत्र दलदली क्षेत्र है।
➧गुजरात का सरक्रीक क्षेत्र भारत और पाकिस्तान के बीच विवादित क्षेत्र माना जाता है।

(2) कोंकण तट-
➧कोंकण तट का विस्तार गुजरात की सुरत जगह से लेकर गोवा तक पड़ता है।
➧कोंकण तट को महाराष्ट्र का तट भी कहते है।

मुम्बई-
➧मुम्बई को भारत की आर्थिक राजधानी भी कहते है।
➧मुम्बई कोंकण तट पर साल्सेट द्वीप पर स्थित है।

मुम्बई बंदरगाह-
➧मुम्बई बंदरगाह भारत का सबसे बड़ा बंदरगाह है।
➧मुम्बई बंदरगाह कोंकण तट पर स्थित है।

न्यूयाॅर्क बंदरगाह-
➧न्यूराॅर्क बंदरगाह विश्व का सबसे बड़ा बंदरगाह है।
➧न्यूराॅर्क बंदरगाह अमेरिका में स्थित है।
➧न्यराॅर्क बंदरगाह तथा न्यूराॅर्क शहर हड़सन नदी के किनारे स्थित है।

हड़सन की खाड़ी-
➧हड़सन की खाड़ी विश्व की सबसे बड़ी खाड़ी है।
➧हड़सन की खाड़ी कनाडा तथा अमेरिका के बीच स्थित है।

बंगाल की खाड़ी-
➧बंगाल की खाड़ी भारत की सबसे बड़ी खाड़ी है।

खम्भात की खाड़ी (गुजरात)-
➧खम्भात की खाड़ी भारत की सबसे पश्चिमी खाड़ी है।
➧खम्भात की खाड़ी गुजरात में स्थित है।

मन्नार की खाड़ी-
➧मन्नार की खाड़ी भारत की सबसे दक्षिणी खाड़ी है।
➧मन्नार की खाड़ी रामेश्वरम द्वीप (भारत) व जाफना द्वीप (श्रीलंका) को जोड़ती है।

आम्र वर्षा-
➧भारत में सर्वाधिक चक्रवाती वर्षा कोंकण तट पर होती है जो की आम्र वर्षा या फुलों की बौछार वाली वर्षा के नाम से जानी जाती है।

(3) कन्नड़ तट-
➧कन्नड़ तट का विस्तार गोवा से लेकर मंगलौर (कर्नाटक) तक पड़ता है।
➧कन्नड़ तट को केनरा तट के नाम से भी जाना जाता है।

पणजी-
➧पणजी गोवा की राजधानी है।
➧पणजी कन्नड़ तट पर माण्डवी नदी के किनारे स्थित है।

मंगलौर बंदरगाह (न्यू बंदरगाह)-
➧मंगलौर बंदरगाह भारत का सबसे छोटा प्राकृतिक बंदरगाह है।
➧मंगलौर बंदरगाह कन्नड़ तट पर कर्नाटक में स्थित है।

मार्मागोवा बंदरगाह-
➧मार्मागोवा बंदरगाह कन्नड़ तट पर गोवा में स्थित है।
➧मार्मागोवा बंदरगाह भारत में लौह निर्यात के लिए प्रसिद्ध है।




(4) मालाबार तट-
➧मालाबार तट का विस्तार मंगलौर (कर्नाटक) से लेकर कन्याकुमारी (तमिलनाडु) तक पड़ता है।
➧भारत के पश्चिमी घाट को मालाबार तट के नाम से भी जाना जाता है।

मोनाजाइट-
➧मोनाजाइट थोरियम का अयस्क है।
➧मोनाजाइट अयस्क सर्वाधिक मात्रा में मालाबार तट पर पाया जाता है।

धनुषकोडी बंदरगाह-
➧धनुकोडी बंदरगाह मालाबार तट पर केरल में स्थित है।

अलेप्पी बंदरगाह-
➧अलेप्पी बंदरगाह मालाबार तट पर केरल में स्थित है।

कोचीन बंदरगाह-
➧कोचीन बंदरगाह मालाबार तट पर केरल में स्थित है।

वेम्बनाड झील-
➧वेम्बनाड झील मालाबार तट पर केरल में स्थित है।
➧वेम्बनाड झील भारत में नौकायान प्रतियोगिता के लिए प्रसिद्ध है।

नीलगिरी की पहाड़ी-
➧पूर्वी घाट तथा पश्चिमी घाट का मिलन नीलगिरी की पहाड़ी में ही होता है।
➧नीलगिरी की पहाड़ी तमिलनाडु में स्थित है।

अन्नाईमुडी चोटी-
➧भारत में पश्चिमी घाट की सबसे ऊंची चोटी अन्नाईमुडी चोटी है।
➧अन्नाईमुडी चोटी तमिलनाडु में स्थित है।
➧अन्नाईमुडी चोटी की कुल ऊंचाई 2696 मीटर है।

कार्डमम की पहाड़ी-
➧कार्डमम की पहाड़ी भारत की सबसे दक्षिणतम पहाड़ी है।
➧कार्डमम की पहाड़ी तमिलनाडु में स्थित है।
➧कार्डमम की पहाड़ी को इलायची की पहाड़ियां या इल्लामलाई की पहाड़ियां भी कहते है।


भारत का पूर्वी घाटयहां क्लिक करें

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें