Type Here to Get Search Results !

आमेर का कछवाह वंश

* आमेर का कछवाह वंश
-कर्नल जेम्स टॉड के अनुसार नरवर (ग्वालियर, मध्यप्रदेश) कि निव 826 ई. मे राजा नल के द्वारा रखी गयी थी।
-आमेर के कछवाह वंश के शासक स्वयम् को राम के पुत्र कुश का वंशज मानते है।

* दुल्हराय-
-1137 ई. मे ग्वालियर से आकर दुल्हराय ने दौसा के बड़गुजरो को पराजित किया और कछवाह वंश/ढ़ुंढ़ाड़ वंश की निव रखी थी।
-दुल्हराय ने दौसा के बाद माची पर आक्रमण किया और माची के मीणाओ को पराजित करके माची को अपनी राजधानी बनाया।
-माची का नाम बदलकर रामगढ़ रख दिया।
-इस विजय के उपलक्ष मे दुल्हराय ने माची मे जमुवाय माता का मंदिर का निर्माण करवाया था।
-जमवाय माता आमेर के कछवाह वंश  कि कुल देवी है।
-जमवाय माता को अन्नापूर्णा माता भी कहा जाता है।
-जमुवा (रामगढ़) फुलो के लिए प्रसिद्ध है। तथा इसे ढ़ुंढ़ाड़ का पुष्कर भी कहा जाता है।
-दुल्हराय ने खोह पर भी अधिकार किया और अपनी राजधानी बनाया।

* कोकिल देव-
-कोकिल देव ने 1207 ई.  मे आमेर के मीणाओ को पराजित करके आमेर को अपनी राजधानी बनाया।
-कछवाह वंश की राजधानी आमेर 1207-1727 ई. तक रही थी।
-18 नवम्बर, 1727 को सवाई जयसिंह ने जयपुर की स्थापना कर अपनी राजधानी बनाया।

-आमेर के कछवाह वंश की राजधानीयो का क्रम-
-(1) दौसा
-(2) माची/रामगढ़
-(3) खोह
-(4) आमेर
-(5) जयपुर

-कोकिल के बाद पुर्णमल, भीमदेव और रतनसिंह अल्प समय के लिए शासक बने थे।
-आमेर के कछवाह वंश के शासक पृथ्वीराज कछवाह ने खानवा के युद्ध मे राणा सांगा की और से भाग लिया था।
-पृथ्वीराज कछवाह के पुत्र सांगा ने  सांगानेर बसाया था।

Post a Comment

4 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।

Top Post Ad

Below Post Ad