गुलाम वंश

 गुलाम वंश/मामलुक वंश (1206-1290 ई.)-

1. कुतुबुद्दीन ऐबक (1206-1210 ई.)-
👉 संस्थापक-
भारत में गुलाम वंश तथा तुर्क साम्राज्य का संस्थापक कुतुबुद्दीन ऐबक है।
✍कुतुबुद्दीन मोहम्मद गौरी का गुलाम था।

👉 लाखबख्श-
✍अर्थ- लाखो का दान देने वाला।
✍कुतुबुद्दीन ऐबक को लाखबख्श के नाम से जाना जाता था।

👉 कुरान खाँ-
✍कुतुबुद्दीन ऐबक को कुरान खाँ के नाम से भी जाना जाता था।

👉 लाहौर-
✍कुतुबुद्दीन ऐबक ने दिल्ली सल्तनत की पहली राजधानी लाहौर को बनाया था।

👉 कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद (दिल्ली)-
✍यह भारत की पहली मस्जिद है।
✍इस मस्जिद का निर्माण सन् 1195-98 के बीच कुतुबुद्दीन ऐबक ने करवाया था।

👉 कुतुब मीनार (दिल्ली)-
✍इसका निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने अपने गुरु शेख ख्वाजा कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी की याद में करवाया था।

👉 अढ़ाई दिन का झोपड़ा (अजमेर)-
यह राजस्थान की प्रथम मस्जिद है।
✍अजमेर में विग्रराज-चतुर्थ/बिसलदेव चौहान के द्वारा एक संस्कृत महाविद्यालय बनवाया गया था।
✍संस्कृत महाविद्यालय को1200 ई. में तुड़वाकर कुतुबुद्दीन ऐबक एक मस्जिद बनवा देता है। जिसे अढ़ाई दिन का झोपड़ा कहते है।
✍इस मस्जिद में पंजाब शाह फकीर के नाम से अढ़ाई दिन का उर्स लगता है इसीलिए इस मस्जिद को अढ़ाई दिन का झोपड़ा कहते है।

👉 जजिया कर-
✍दिल्ली सल्तनत में जजिया कर लागु करने वाला प्रथम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक था।

👉 चौगान/पोलो-
✍सन् 1210 में में चौगान खेलते वक्त घोड़े से गिर जाने के कारण लाहोर में कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु हो जाती है।

👉 कुतुबुद्दीन ऐबक का मकबरा-
✍कुतुबुद्दीन ऐबक का मकबरा लाहौर में स्थित है।

2. आरामशाह-
✍सन् 1210 में कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के बाद गुलाम वंश का अगला शासक कुतुबुद्दीन ऐबक के बेटे आरामशाह को बनाया गया था।
✍आरामशाह मात्र 10 माह के लिए ही शासक बना था।

👉 जुद/ जुदू का युद्ध-
समय- 1210 ई.
स्थान- लाहौर
मध्य- अारामशाह तथा इल्तुतमिश
जीत- इल्तुतमिश
हार- आरामशाह
✍इसी युद्ध को जीतने के बाद इल्तुतमिश ने गुलाम वंश की गद्दी प्राप्त की थी।

3. इल्तुतमिश (1211-1236 ई.)-
👉 वास्तविक संस्थापक-
दिल्ली सल्तनत का वास्तविक संस्थापक इल्तुतमिश है। क्योकी इल्तुतमिश ने सर्वप्रथम दिल्ली सल्तनत की राजधानी दिल्ली बनाई थी।

👉 अरबी सिक्के-
टंका- यह चाँदी का सिक्का था।
जीतल- यह तांबे का सिक्का था।
✍दिल्ली सल्तनत में सर्वप्रथम अरबी भाषा के सिक्के/ अरबी सिक्के चलाने वाला प्रथम शासक इल्तुतमिश था।

👉 सुल्तान-
✍दिल्ली सल्तनत में सुल्तान की उपाधि धारण करने वाला प्रथम शासक इल्तुतमिश था।

👉 इक्तादारी प्रणाली/ इक्ता प्रथा-
✍दिल्ली सल्तनत में इक्तादारी प्रथा सर्वप्रथम इल्तुतमिश ने लागू की थी।
✍इस प्रथा में सैनिकों को नगद वेतन के बदले भू-खण्ड दान में दिया जाता था।

👉 तुर्कान-ए-चिहलगानी/ दल-ए-चालीसा-
✍इल्तुतमिश के द्वारा चालीस गुलामों का दल/ संगठन बनाया गया था जिसे दल-ए-चालीसा कहा गया था।
✍यह दल दरबार की सूचना देता था।

👉 गुलामों का गुलाम-
✍गुलामों का गुलाम इल्तुतमिश को कहते है।

👉 तराईन का तृतीय युद्ध-
समय- 1216 ई.
स्थान- हरियाणा
मध्य- इल्तुतमिश तथा याजुद्दीन यलदौज
जीत- इल्तुतमिश
हार- याजुद्दीन यलदौज

👉 खोकर विद्रोह-
✍इसी विद्रोह को दबाने के दौरान 1236 ई. इल्तुतमिश की मृत्यु हो जाती है।

4. रजिया सुल्तान (1236-1240 ई.)-
पिता- इल्तुतमिश
माता- शाहतुर्कान
भाई- रुकुनुद्दीन फिरोजशाह
✍रजिया सुल्तान भारत की प्रथम मुस्लिम महिला शासिका थी।

👉 अल्तुनिया-
✍यह भटिंडा (पंजाब) का सुबेदार था जिससे रजिया सुल्तान विवाह करती है।

👉 कैथल (हिसार, हरियाणा)-
✍1240 ई. में इसी स्थान पर भाई रुकुनुद्दीन फिरोजशाह के द्वारा रजिया सुल्तान की हत्या करवा दी गई थी।

5. बलबन (1266-1287 ई.)-
👉 राजत्व का सिद्धांत-
✍बलबन ने राजा ने राजा के पद्द की प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए राजत्व का सिद्धांत लागू किया था।

👉 लोह एवं रक्त कि निति/ तलवार एवं जहर कि निति-
✍यह निति दरबार में बलबन ने लागू की थी।

👉 उलूग खाँ-
✍यह उपाधि बलबन ने धारण की थी।

👉 जिल्ले-ए-इलाही/जिल्ले इल्लाह-
✍बलबन अपने आप को अल्लाह का प्रतिनिधि मानता था इसीलिए अपने आप को दरबार में जिल्ले-ए-इलाही बुलाता था।

👉 बलबन के द्वारा लागू की गई तीन नयी परम्पराएं-
1. सिजदा/सजदा- दरबार में सरदार के सामने सर झुकाना।
2. पैबोस/पाबोस- दरबार में सरदार के पैर चुमना।
3. नवरोज/नौरोज- नव वर्ष त्योहार।

👉 बलबन के द्वारा बनाये गये विभाग-
✍दीवान-ए-बरीद- यह बलबन का गुप्तचर विभाग था।
✍दीवान-ए-आरीज- यब बलबन का सैन्य विभाग था।

👉 तैमूर खाँ-
✍यह मंगोल आक्रमणकारी था जिसने बलबन के बेटे सुल्तान मोहम्मद को हराया था तथा सुल्तान मोहम्मद की हत्या कर दी थी इसीलिए सुल्तान मोहम्मद को शहीद शहजादा/शहीद बादशाह के नाम से जाना जाता है।

👉 मंगोलपुरी (दिल्ली)-
✍दिल्ली सल्तनत में सर्वाधिक मंगोल अाक्रमण बलबन के काल में हुए थे।
✍बलबन ने मंगोलो को दिल्ली की मंगोलपुरी नामक जगह पर ही बसाया था।

👉 तुर्कान-ए-चिहलगानी-
✍इल्तुतमिश के इस संगठन को बलबन ने ही समाप्त किया था।

👉 चालिसा-
✍बलबन की मृत्यु होने पर उसके दरबारीयों ने 40 दिन तक शोक मनाया था जिसे चालिसा कहते है।

6. क्यूमर्स-
✍यह गुलाम वंश का अंतिम शासक था जिसकी हत्या जलालूद्दीन खिलजी ने की थी।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।