सिरोही के चौहान

👉 सिरोही के चौहान (चौहान वंश)-
✍ प्राचीन साहित्य में सिरोही को अर्बुद प्रदेश कहा गया है।
✍ कर्नल जैम्स टाॅड के अनुसार सिरोही का मूल नाम शिवपुरी था।
✍ मध्यकालीन भारत में सिरोही में परमारों का राज्य था जिसकी राजधानी चंद्रावती थी।

👉 लुम्बा-
✍ लुम्बा ने 1311 ई. में आबु और चंद्रावती को परमारो से छीनकर अपनी स्वतंत्रता स्थापित की।
✍ लुम्बा के द्वारा 1311 ई. में चौहानों की देवड़ा शाखा की स्थापना की गई।
✍ लुम्बा को सिरोही के चौहानों का अादिपुरुष कहा जाता है।

👉 अखैराज देवड़ा प्रथम-
✍ उपनाम- उड़ना अखैराज (तेज गति से आक्रमण करने के कारण)
✍ अखैराज देवड़ा प्रथम ने 1527 ई. में हुए खानवा के युद्ध में महाराणा साँगा का साथ दिया।

👉 सिरोही-
✍ स्थापना- 1425 ई.
✍ संस्थापक- सहासमल
✍ सहासमल ने सिरोही को अपनी राजधानी बनायी।
✍ 1823 ई. में सिरोही के शासक शिवसिंह ने ईस्ट इंडिया कंपनी से संधि की जो की अंग्रेजो (ईस्ट इंडिया कंपनी) की सहायक संधि स्वीकार करने वाली अंतिम रियासत सिरोही थी।
✍ सिरोही रियासत का राजस्थान में एकीकरण विलय दो चरणों में किया गया।
✍ 26 जनवरी 1950 को  आबु और देलवाड़ा को छोड़कर सिरोही को राजस्थान में मिलाया गया।
✍ 1 नवम्बर 1956 को आबु और देलवाड़ा को राजस्थान में शामिल कर राजस्थान का एकीकरण पुरा किया गया।

2 comments:

  1. tak chauhan jin hohne pabu ji rathore ki khichi ke sath yudh main help ki thi un tak chauahn ke bare main detail h kya to batana

    ReplyDelete
  2. tak chauhan jin hohne pabu ji rathore ki khichi ke sath yudh main help ki thi un tak chauahn ke bare main detail h kya to batana

    ReplyDelete

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।