भारत में 1857 की क्रांति

👉 भारत में 1857 की क्रांति - महत्त्वपूर्ण तथ्य-

👉 गवर्नर जनरल-
✍ 1857 की क्रांति के समय भारत का गवर्नर जनरल लार्ड कैनिंग था।

👉 प्रधानमंत्री-
✍ 1857 की क्रांति के समय इंग्लैंड का प्रधानमत्री लार्ड पामस्टर्न था।

👉 मुगल शासक-
✍ 1857 की क्रांति के समय भारत का मुगल शासक बहादुर शाह जफर या बहादुर शाह द्वितीय था।

👉 प्रतिक चिह्न-
✍ 1857 की क्रांति का प्रतिक चिह्न कमल का फुल तथा रोटी था।

👉 भारत में 1857 की क्रांति के प्रमुख कारण-
1. 1857 की क्रांति का धार्मिक कारण-
✍ भारत में 1857 की क्रांति का सबसे बड़ा व प्रमुख कारण धार्मिक कारण को माना जाता है
✍ धार्मिक कारण इसीलिए माना जाता है क्योकी एनफील्ड राइफल  में सुअर तथा गाय की चर्बी से बने कारतूस इस्तेमाल होते थे।

2. राजनीतिक कारण-
✍ भारत में 1857 की क्रांति का राजनीतिक कारण लार्ड डलहौजी की हड़प नीति को माना जाता है।

👉 लार्ड डलहौजी की हड़प नीति/ राज्य हड़प नीति-
✍ हड़प नीति को गोद निषेध नीति भी कहते है।
✍ हड़प नीति को लार्ड डलहौजी ने सन् 1848 में लागू की थी।

👉 हड़प नीति के द्वारा हड़पी गई रियासते-
1. सतारा रियासत-
✍ राज्य हड़प नीति के द्वारा लार्ड डलहौजी ने सन् 1848 में सर्वप्रथम महाराष्ट्र की सतारा रियासत को हड़पा था
✍ सन् 1848 में सतारा रियासत का शासक प्रतापसिंह भोसले था।

2. अवध रियासत-
✍ वर्तमान में अवध का नाम लखनव है।
✍ लखनव उत्तर प्रदेश में स्थित है।
✍ राज्य हड़प नीति के द्वारा कुशासन के आरोप में लार्ड डलहौजी ने सन् 1856 में अवध रियासत को हड़पा था।
✍ सन् 1856 में अवध का शासक वाजिद अली शाह था।

👉 भारत में 1857 की क्रांति की शुरुआत-
👉 बैरकपुर छावनी-
✍ 1857 की क्रांति की शुरुआत पश्चिम बंगाल की बैरकपुर छावनी से 29 मार्च 1857 को हुई थी।
✍ 29 मार्च 1857 को मंगल पांडे नामक सेनिक ने इस क्रांति की शुरुआत की थी।
✍ इस क्रांति को शुरु करने का मुख्य कारण चर्बी वाले कारतूस माने जाते है।

👉 मंगल पांडे-
✍ मंगल पांडे मूल रुप से उत्तर प्रदेश के बलिया क्षेत्र के रहने वाले थे।
✍ 1857 की क्रांति के दौरान मंगल पांडे ने अंग्रेज अधिकारी लेफ्टिनेंट बाग तथा मेजर जनरल हयूसन का गोली मारकर हत्या कर दी थी।
✍ इस हत्या के लिए 8/10 अप्रैल 1857 को मंगल पांडे को तोप से उड़ा दिया गया था।
✍ मंगल पांडे को तोप से उड़ाने के कारण बैरकपुर छावनी में 1857 की क्रांति असफल रही या दब गई थी।

👉 भारत में 1857 की वास्तविक शुरुआत-
✍ 1857 की क्रांति की वास्तविक शुरुआत उत्तर प्रदेश की मेरठ छावनी के सैनिकों द्वारा 10 मई 1857 को की गई थी।
✍ मेरठ छावनी के सैनिकों का नेतृत्व जनरल बख्त खां ने किया था।

👉 भारत में 1857 की क्रांति के प्रमुख विद्रोह स्थल-
1. झांसी (उत्तर प्रदेश)-
✍ झांसी से 1857 की क्रांति का नेतृत्व रानी लक्ष्मी बाई ने किया था।

👉 रानी लक्ष्मी बाई-
✍ रानी लक्ष्मी बाई राव गंगाधर की विधवा पत्नी थी।
✍ रानी लक्ष्मी बाई को झांसी की रानी के नाम से जाना जाता है।
✍ रानी लक्ष्मी बाई का वास्तविक नाम मणिकर्णिका था।
✍ रानी लक्ष्मी बाई को महल परी के नाम से भी जाना जाता है।

👉 जनरल हयूरोज-
✍ जनरल हयूरोज के साथ लड़ते हुए रानी लक्ष्मी बाई वीरगति को प्राप्त हुई थी।
✍ रानी लक्ष्मी बाई की मृत्यु पर जनरल हयूरोज ने यह कथन कहा था "भारतीय क्रांतिकारियों में यह सोयी हुई अकेली मर्द है। "

2. अवध (उत्तर प्रदेश)-
✍ अवध का नया नाम लखनव है।
✍ अवध से 1857 की क्रांति का नेतृत्व बेगम हजरत महल ने किया था।

👉 बेगम हजरत महल-
✍ बेगम हजरत महल वाजिद अली शाह की विधवा पत्नी थी।
✍ बेगम हजरत महल को महक परी के नाम से भी जाना जाता है।

3. फैजाबाद (उत्तर प्रदेश)-
✍ फैजाबाद से 1857 की क्रांति का नेतृत्व मौलवी अहमदुल्लाह शाह ने किया था।
✍ मौलवी अहमदुल्लाह शाह पर अंग्रेजों ने 50,000 रुपये का इनाम भी रखा था।

4. ग्वालियर (मध्य प्रेदश)-
✍ ग्वालियर से 1857 की क्रांति का नेतृत्व तात्या टोपे ने किया था।

👉 तात्य टोपे-
✍ तात्या टोपे रानी लक्ष्मी बाई का चचेरा भाई था।
✍ तात्या टोपे का वास्तविक नाम रामचन्द्र पांडुरंग था।

5. जगदीशपुर (बिहार)-
✍ जगदीशपुर से 1857 की क्रांति का नेतृत्व कुंवर सिंह ने किया था।

6. रुहेलखण्ड (उत्तर प्रदेश)-
✍ रुहेलखण्ड से 1857 की क्रांति का नेतृत्व खान बहादुर खान ने किया था।

7. इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)-
✍ इलाहाबाद से 1857 की क्रांति का नेतृत्व लियाकत अली खान ने किया था।

8. दिल्ली-
✍ दिल्ली से 1857 की क्रांति का नेतृत्व बहादुर शाह जफर या बहादुर शाह द्वितीय ने किया था।

9. असम/ असोम-
✍ असोम से 1857 की क्रांति का नेतृत्व मनीराम दत्त ने किया था।

10. पटना (बिहार)-
✍ पटना से 1857 की क्रांति का नेतृत्व पीर अली ने किया था।

11. कानपुर (उत्तर प्रदेश)-
✍ कानपुर से 1857 की क्रांति का नेतृत्व नाना साहब ने किया था।

👉 1857 की क्रांति पर लिखी गई प्रमुख पुस्तके-
1. स्वतंत्रता का प्रथम संग्राम-
✍ यह पुस्तक विनायक दामोदर सावरकर (वी.डी. सावरकर) द्वारा लिखी गई थी।

2. महान विद्रोह-
✍ यह पुस्तक अशोक महता के द्वारा लिखी गई थी।
✍ इस पुस्तक में अशोक महता ने क्रांति को एक राष्ट्रीय विद्रोह बताया था।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।