जयसमंद झील (उदयपुर, राजस्थान)

👉 जयसमंद झील-
✍ स्थित- उदयपुर (राजस्थान)
✍ प्रकार- कृत्रिम झील
✍ उपनाम- ढेबर झील, जलतरो की बस्ती, सात टापुओं वाली झील
✍ निर्माता- महाराणा जयसिंह (उदयपुर शासक)
✍ निर्माण वर्ष- 1685 से 1691 ई. तक
✍ लम्बाई- 15 किमी.
✍ चौड़ाई- 2 से 8 किमी. तक
✍ क्षेत्रफल- 55 वर्ग किमी.
✍ विशेषताएं-
✍ यह झील राजस्थान की सबसे बड़ी कृत्रिम झील है।
✍ यह राजस्थान की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील है।
✍ जयसमंद झील एशिया महाद्वीप की दुसरी सबसे बड़ी व सबसे पुरानी कृत्रिम झील है।
✍ एशिया महाद्वीप की सबसे बड़ी व सबसे पुरानी कृत्रिम झील गोविंद सागर झील (भाखड़ा बांध, हिमाचल प्रदेश) है।
✍ वर्तमान में इस झील में गोमती, झामरी, रुपारेल जैसी नदियों का पानी आता है।
✍ इस झील में सर्वाधिक जलिय जीव पाये जाने के कारण इसे जलचरो की बस्ती भी कहते है।
✍ इस झील में सात टापू स्थित होने के कारण इसे सात टापुओं वाली झील कहते है।
✍ इन सात टापुओं पर सर्वाधिक भील तथा मीणा जाति के लोग रहते है।
✍ जयसमंद झील का सबसे बड़े टापू का नाम बाबा का भागड़ा है।
✍ जयसमंद झील के सबसे छोटे टापू का नाम प्यारी है।




✍ ढेबर झील-
✍ महाराणा जयसिंह ने ढेबर नामक जगह पर गोमती, रुपारेल, झामरी जैसी नदियों का पानी रोक कर जयसमंद झील का निर्माण करवाया था इसीलिए इसे ढेबर झील भी कहते है।

✍ नर्मदेश्वर महादेव मंदिर-
✍ निर्माता- महाराणा जयसिंह
✍ यह मंदिर जयसमंद झील के पास उदयपुर में स्थित है।

✍ लसाड़िया का पठार-
✍ यह पठार जयसमंद झील के पास उदयपुर में स्थित है।

✍ रूठी रानी-
✍ वास्तविक नाम- उमादे भटियाणी
✍ उपनाम- रूठी रानी, मारवाड़ की स्वाभिमानी रानी
✍ पिता- राव लूणकरण (जैसलमेर शासक)
✍ पति- मालदेव (मारवाड़ शासक)
✍ उमादे भटियाणी अपने पति मालदेव से रूठ कर अजमेर के तारागढ़ दुर्ग (एक तारागढ़ दुर्ग बूंदी में भी स्थित है।) में आ गयी थी।

✍ औदिया-
✍ मेवाड़ के शासको ने शिकार करने के उद्देश्य से जयसमंद झील के पास औदिया बनवाये थे।
✍ औदिया जाली के झरोखो को कहते है।

✍ श्यामापुरा तथा भट्टा/ भाट नहरें-
✍ ये दोनों नहरें सिंचाई के उद्देश्य से जयसमंद झील से निकाली गई है।

7 comments:

  1. Jaysamand jeel is very nice

    ReplyDelete
  2. Sir aap Ka what's up Group h kya Raj. Gk ka...

    ReplyDelete
    Replies
    1. GK Class ka Whatsapp Group nhi h, GK Class instagram pe h, GK Class Facebook pe h or GK Class.in pe Aapko behtr suvidhaye milegi Visit on www.gkclass.in, Thanks & Welcome to GK Class

      Delete

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें