भारत के भूगोल का इतिहास

भूगोल का इतिहास 
👉भूगोल-
➯पृथ्वी का वर्णन करना या पृथ्वी का अध्ययन करना ही भूगोल कहलाता है।

👉यूनान/ यूनानी-
➯भूगोल बनाने का श्रेय यूनानियों को दिया जाता है।

👉इरैटोस्थनीज-
➯इरैटोस्थनीज यूनान के प्रसिद्ध भूगोल वेत्ता थे जिन्होंने भूगोल के लिए सर्वप्रथम ज्योग्राफिका शब्द प्रयोग किया तथा इन्होंने भूगोल की सबसे पहली पुस्तक ज्योग्राफिका लिखी थी।

👉जियोग्राफी-
➯जियोग्राफी शब्द जियो+ग्रेफो शब्दों से मिलकर बना है जिसमें जियो का अर्थ पृथ्वी तथा ग्रेफो का अर्थ वर्णन करना या अध्ययन करना है।

➯जियोग्राफी (Geography)= जियो (Geo)+ ग्रफो (Grapho)

👉ग्लोब-
➯ग्लोब पृथ्वी का लघु रूप है।
➯विश्व का प्रथम ग्लोब यूनान के वैज्ञानिक मार्टिन बैहम/ मार्टिन गोहम ने बनाया था।

👉भारत के उपनाम या अन्य नाम-
1. जम्बूद्वीप
2. आर्यावर्त
3. भारत
4. हिन्दुस्तान
5. इण्डिया

1. जम्बूद्वीप-
➯भारत का सबसे प्राचीन नाम जम्बूद्वीप माना जाता है जिसका वर्णन बौद्ध धर्म, जैन धर्म तथा पौराणिक ग्रंथों में मिलता है।
➯जम्बू का अर्थ- जामुन है अर्थात जामुन के पेड़ पाये जाने के कारण भारत को जम्बूद्वीप कहा जाता था।

2. आर्यावर्त-
➯भारत को आर्यो के द्वारा बसाये जाने के कारण भारत को आर्यावर्त कहा जाता था।

3. भारत-
➯कौरव वंश के राजा दुष्यंत के पुत्र भरत के नाम पर ही भारत का नाम भारत रखा गया था।
➯राजा भरत को भारत का चक्रवर्ती सम्राट माना जाता है।

4. हिन्दुस्तान-
➯पर्शिया/फारस/ईरान के निवासि सिन्धु नदी को हिन्दु नदी के नाम से उच्चारित करते थे तथा सिन्धु नदी अर्थात ईरानियों के अनुसार हिन्दु नदी के आप पास के क्षेत्र को हिन्दुस्तान कहने लगे थे इसीलिए भारतर का नाम हिन्दुस्तान पड़ा है।

5. इण्डिया-
➯भारत का इण्डिया नाम यूनानियों की देन माना जाता है क्योकी यूनानी लोग सिन्धु नदी को इण्डस/इण्डोस नदी कहते थे इसीलिए भारत का नाम इण्डिया पड़ा है।

👉संविधान-
➯भारतीय संविधान के अनुच्छेद-1 में भारत के लिए दो शब्दों का प्रयोग किया गया है जैसे-
1. हिन्दी भाषा में भारत
2. अंग्रेजी भाषा में इण्डिया (India)

👉भारत की खोज-

👉वास्कोडिगामा-
➯समुद्री रास्ते से भारत की खोज करने वाला व्यक्ति पुर्तगाली नागरिक वास्कोडिगामा था।
➯वास्कोडिगामा पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन से चला था जो की 17 मई 1498 को भारत में केरल के कालिकट तट पर पहुंचा था।
➯केरल के कालिकट तट पर पहुंचने पर वास्कोडिगामा का स्वागत यहां के शासक जमोरिन ने किया था।
➯वास्कोडिगामा कु 2 बार भारत आया था।

👉पुर्तगाली-
➯भारत आने वाली प्रथम विदेशी जाति पुर्तगाली थे तथा स्वतंत्र भारत से सबसे अन्त में जाने वाली विदेशी जाति भी पुर्तगाली ही थे।
➯पुर्तगाली जाति भारत में सन् 1498 में आये थे तथा सन् 1961 में भारत से गये थे।

👉एनविले-
➯एनविले ने सन् 1752 में भारत का पहला मानचित्र बनाया था।

👉जेम्स रेनेल-
➯भारत के मानचित्र को प्रकाशित करने वाला प्रथम व्यक्ति जेम्स रेनेल था जिसने सन् 1783 में अपनी पुस्तक मैप आॅफ हिन्दुस्तान में भारत का नक्सा प्रकाशित किया था।

👉एनेक्सी मेंडर-
➯भारत के मानचित्र को विश्व के मानचित्र या ग्लोब पर दिखाने वाला प्रथम विद्वान एनेक्सी मेंडर था।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।