राजस्थान के प्रमुख त्योहार

राजस्थान के त्योहार
👉हिंदी महीने क्रमशः-
क्र.संहिंदी महीनेमहीने (ग्रेगोरियन)
1चैत्रमार्च-अप्रैल
2वैषाखअप्रैल-मई
3ज्येष्ठमई-जून
4आषाढ़जून-जुलाई
5श्रावणजुलाई-अगस्त
6भाद्रपदअगस्त-सितम्बर
7अाश्विनसितम्बर-अक्टूबर
8कार्तिकअक्टूबर-नवम्बर
9मार्गशीर्षनवम्बर-दिसम्बर
10पौषदिसम्बर-जनवरी
11माघजनवरी-फरवरी
12फाल्गुनफरवरी-मार्च

👉राष्ट्रीय पंचांग-
➯राष्ट्रीय पंचांग का पहला महीना चैत्र होता है।
➯राष्ट्रीय पंचांग का अंतिम महीना फाल्गुन होता है।
➯राष्ट्रीय पंचांग का पहला दिन चैत्र कृष्ण एकम होता है।
➯राष्ट्रीय पंचांग का अंतिम महीना फाल्गुन पूर्णिमा होता है।
➯भारत का राष्ट्रीय पंचांग शक संवत पर आधारित है।
➯भारतीय संविधान में शक संवत को राष्ट्रीय पंचांग के रूप में 22 मार्च 1957 को स्वीकार किया गया था।
➯शक संवत का प्रारम्भ 78 ई. में कनिष्क के काल से हुआ था।
➯शक संवत के अनुसार वर्तमान में वर्ष 1940 (2018-78) चल रहा है।
चैत्र महीने के त्योहार
1. चैत्र कृष्ण एकम/प्रतिपदा- धुलण्डी
2. चैत्र कृष्ण अष्टमी- शीतलाष्टमी
3. चैत्र शुक्ल एकम/प्रतिपदा- घुडला (गुड़ी पड़वा त्योहार), हिन्दु नववर्ष, नवरात्रा प्रारम्भ
4. चैत्र शुक्ल द्वितीया- सिंजारा/ सिधारा
5. चैत्र शुक्ल तृतीया- गणगौर
6. चैत्र शुक्ल पंचमी- गुलाबी गणगौर
7. चैत्र शुक्ल अष्टमी- दुर्गाष्टमी/ नवरात्रा समाप्त, अशोकाष्टमी
8. चैत्र शुक्ल नवमी- रामनवमी
9. चैत्र शुक्ल त्रयोदशी- महावीर जयंती
10. चैत्र शुक्ल पूर्णिमा- हनुमान जयंती

👉शीतलाष्टमी-
➯जयपुर की चाकसू नामक जगह पर शीतला माता का मेला भरता है।

👉घडला त्योहार-
➯घडला त्योहार राजस्थान में मारवाड़ में मनाया जाता है।

👉अशोकाष्टमी-
➯अशोकाष्टमी के दिन अशोक वृक्ष की पूजा की जाती है।

👉गणगौर-
➯राजस्थान में सर्वाधिक गीतों वाला त्योहार गणगौर को माना जाता है।
➯होली के 15 दिन बाद ही गणगौर का त्योहार मनाया जाता है।
➯राजस्थान में गणगौर जयपुर जिले की प्रसिद्ध है।
➯गणगौर त्योहार से त्योहारों का समापन होता है।
➯राजस्थान के जैसलमेर जिले में गणगौर के दिन गवर की पूजा की जाती है। (ईशर की पूजा नहीं की जाती इस दिन)

👉गुलाबी गणगौर-
➯राजस्थान में गुलाबी गणगौर का त्योहार राजसमंद जिले की नाथद्वारा नामक जगह का प्रसिद्ध है।

👉रामनवमी-
➯रामनवमी के दिन भगवान श्री राम का जन्म हुआ था।
वैशाख महीने के त्योहार
1. वैशाख शुक्ल तृतीया- अक्षय तृतीया/आखातीज, परशुराम जयंती

👉आखातीज-
➯आखातीज के दिन सर्वाधिक बाल विवाह होते है क्योकि आखातीज के दिन अभूज/अबूझ सावा माना जाता है।
➯आखातीज के दिन भगवान परशुराम का जन्म हुआ था।
➯आखातीज के दिन सतयुग व त्रेतायुग का प्रारम्भ हुआ था।
ज्येष्ठ महीने के त्योहार
1. ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी- निर्जला एकादशी (ग्यारस)
2. ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा- पीपल पूर्णिमा

👉निर्जला एकदशी-
➯निर्जला एकादशी के दिन महिलाएं बिना जल ग्रहण किये निर्जला एकादशी का व्रत रखती है।
आषाढ महीने के त्योहार
1. आषाढ कृष्ण एकादशी- योगिनी एकादशी
2. आषाढ शुक्ल एकादशी- देवशयनी एकादशी
3. आषाढ शुक्ल पूर्णिमा- गुरु पूर्णिमा
श्रावण महीने के त्योहार
1. श्रावण कृष्ण पंचमी- नागपंचमी
2. श्रावण कृष्ण षष्ठी- उब छठ
3. श्रावण कृष्ण नवमी- निडरी नवमी
4. श्रावण शुक्ल तृतीया- छोटी तीज, श्रावणी तीज
5. श्रावण शुक्ल पूर्णिमा- रक्षा बन्धन (नारियल पूर्णिमा/ सत्य पूर्णिमा/ श्रावणीक पूर्णिमा)

👉नागपंचमी-
➯नागपंचमी के दिन सापों की पूजा की जाती है।

👉निडरी नवमी-
➯निडरी नवमी के दिन नेवलों की पूजा की जाती है।

👉तीज-
➯छोटी तीज से ही त्योहारों का आगमन होता है।
➯राजस्थान में तीज माता का मेला जयपुर जिले का प्रसिद्ध है।

👉रक्षा बन्धन-
➯रक्षा बन्धन के दिन श्रवण कुमार की पूजा की जाती है।
भाद्रपद महीने के त्योहार
1. भाद्रपद कृष्ण तृतीया- बड़ी तीज/ सातुड़ी तीज/ कजली तीज
2. भाद्रपद कृष्ण षष्ठी- हल छठ
3. भाद्रपद कृष्ण अष्टमी- कृष्ण जन्माषष्टमी
4. भाद्रपद कृष्ण नवमी- गोगा नवमी
5. भाद्रपद कष्ण द्वादशी- बच्छ बारस
6. भाद्रपद शुक्ल तृतीया- हरतालिका तीज
7. भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी- गणेश चतुर्थी/ चतरा चौथ
8. भाद्रपद शुक्ल पंचमी- ऋषि पंचमी
9. भाद्रपद शुक्ल एकादशी- देवझुलणी एकादशी/ जलझुलणी एकादशी

👉कजली तीज-
➯कजली तीज के दिन नीम के वृक्ष की पूजा की जाती है।
➯राजस्थान में कजली तीज का मेला बूंदी में भरता है।
➯राजस्थान में कजली तीज की सवारी बूंदी जिले की प्रसिद्ध है।

👉बच्छ बारस-
➯बच्छ बारस के दिन गाय व बछड़े की पूजा की जाती है।
आश्विन महीने के त्योहार
1. आश्विन शुक्ल दशमी- दशहरा/ विजयादशमी

👉दशहरा-
➯दशहरे के दिन खेजड़ी वृक्ष की पूजा की जाती है।
➯दशहरे का मेला राजस्थान में कोटा जिले का प्रसिद्ध है।
कार्तिक महीने के त्योहार
1. कार्तिक कृष्ण चतुर्थी- करवाचौथ
2. कार्तिक कृष्ण अमावस्या- दीपावली
3. कार्तिक शुक्ल द्वितीया- भैयादूज
4. कार्तिक शुक्ल नवमी- आंवला नवमी
5. कार्तिक शुक्ल एकादशी- देव उठनी ग्यारस

👉दीपावली-
➯दीपावली के दिन गणेश व लक्ष्मी की पूजा की जाती है।

👉आंवला नवमी-
➯आंवला नवमी के दिन आंवले के वृक्ष की पूजा की जाती है।
माघ महीने के त्योहार
1. माघ कृष्ण चतुर्थी- संकट चौथ/ तिलकुटा चौथ (तिल चौथ)
2. माघ कृष्ण अमावस्या- मौनी अमावस्या
3. माघ शुक्ल पंचमी- बसंत पंचमी
फाल्गुन महीने के त्योहार
1. फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा- होली

👉होली-
➯राजस्थान में पत्थर मार होली बाड़मेर जिले की प्रसिद्ध है।
➯राजस्थान में लठमार होली श्री महावीर जी (करौली) की प्रसिद्ध है।
➯राजस्थान में कोड़ामार होली भिनाय (अजमेर) की प्रसिद्ध है।
➯राजस्थान में देवर भाभी की होली ब्यावर (अजमेर) की प्रसिद्ध है।
➯राजस्थान में अंगारों की होली केकड़ी (अजमेर) की प्रसिद्ध है।
➯राजस्थान में गोबर के कंडों की होली गलियाकोट (डूंगरपुर) की प्रसिद्ध है।
मुस्लिम धर्म के त्योहार
1. मुहर्रम-
➯मुहर्रम का त्योहार कुर्बानी का त्योहार है।
➯मुहर्रम मुहम्मद शहब के बेटे इमाम हुसैन के शहीदी दिन को शोक दिवस के रूप में मनाया जाता है।
➯मुहर्रम के दिन ताशा नामक वाद्य यंत्र के साथ ताजिये निकाले जाते है।

2. ईद उल मिला दुलनबी-
➯इद उल मिला दुलनबी त्योहार को बारावफाता भी कहते है।
➯मुस्लिम धर्म के प्रवर्तक हजरत मुहम्मद साहब के जन्म दिवस के दिन ईद उल मिला दुलनबी त्योहार मनाया जाता है।

3. ईद उल फितर-
➯इद उल फितर त्योहार को मिठी ईद भी कहते है।

4. ईद उल जूहा-
➯ईद उल जूहा त्योहार को बकरी ईद भी कहते है।
➯बकरी ईद के दिन बकरे या बकरी की बली दी जाती है।
सिख धर्म के त्योहार
1. वैषाखी-
➯वैषाखी का त्योहार प्रतिवर्ष 13 अप्रैल को मनाया जाता है।

2. लोहड़ी-
➯लोहड़ी का त्योहार प्रतिवर्ष 13 जनवरी को मनाया जाता है।

3. गुरु नानक जयंती-
➯गुरु नानक जयंती कार्तिक पूर्णिमा को मनायी जाती है।

4. गुरु गोविंद सिंह जयंती-
➯गुरु गोविंद सिंह जयंती पौष शुक्ल सप्तमी को मनायी जाती है।
जैन धर्म के त्योहार
1. दस लक्षण त्योहार-
➯दस लक्षण त्योहार चैत्र, भाद्रपद व माघ महीने की शुक्ल पंचमी से लेकर पूर्णिमा तक मनाया जाता है।

2. पर्यूषण त्योहार-
➯पर्यूषण त्योहार जैनियों के द्वारा 10 दिन तक मनाया जाता है।

3. रोट तीज-
➯रोट तीज का त्योहार भाद्रपद शुक्ल तृतीया को मनाया जाता है।

4. महावीर जयंती-
➯महावीर जयंती चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को मनायी जाती है।

5. ऋषभ देव जयंती-
➯ऋषभ देव जयंती चैत्र कृष्ण नवमी को मनायी जाती है।

6. चालीहा महोत्सव-
ईसाई धर्म के त्योहार
1. क्रिसमिस डे-
➯क्रिसमिस डे ईसा मसीह के जन्म दिन के दिन 25 दिसम्बर को मनाया जाता है।

2. गुड फ्राइडे-
➯गुड फ्राइडे के दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था।
➯गुड फ्राइडे अप्रैल महीने में मनाया जाता है।

3. ईस्टर-
➯गुड फ्राइडे के अगले रविवार के दिन ईसामसीह के पुनर्जन्म के रूप में मनाया जाता है जिसे ईस्टर कहते है।
सिंधि समाज के त्योहार
1. थुदड़ी या बड़ी सातम-
➯थुदड़ी या बड़ी सातम का त्योहार भाद्रपद कृष्ण सप्तमी के दिन मनाया जाता है।

2. चेटीचंड-
➯चेटीचंड का त्योहार चैत्र शुक्ल एकम के दिन मनाया जाता है।

3. असूचंड पर्व-
➯असूचंड पर्व को फाल्गुन शुक्ल चतुर्थदशी के दिन मनाया जाता है।
अन्य महत्वपूर्ण तथ्य
👉विक्रम संवत-
➯विक्रम संवत का प्रारम्भ 57 ई.पू. विक्रमाद्वितीय के काल में हुआ था।
➯विक्रम संवत के अनुसार वर्तमान में वर्ष 2075 (2018+57) चल रहा है।

👉हिजरी संवत या पंचांग-
➯हिजरी सन् का पहला महीना मुहर्रम होता है।
➯हिजरी सन् का अंतिम महीना जिलहिज्ज होता है।



➯हिजरी संवत के महीने क्रमशः-
क्र.संइस्लामिक महीने
1मुहर्रम
2सफर
3रबीउल अव्वल
4रबीउल अाखिर
5जमादी-उल-अव्वल
6जमादी-उल-आखिर
7रजब
8शाबान
9रमजान
10शव्वाल
11जिलकाद
12जिलहिज्ज
👉घींगा गणगौर-
➯घींगा गणगौर राजस्थान में उदयपुर जिले की प्रसिद्ध है।

👉फूलडोल उत्सव-
➯राजस्थान में फूलडोल उत्सव रामस्नेही पंथ द्वारा मनाया जाता है।
Study Notes Links
India GK Click here
World GK Click here
Current GK Click here
Rajasthan GK Click here
General Science Click here
Important Links Links
Results Click here
Syllabus Click here
Admit Card Click here
Answer Key Click here
Job Notification Click here

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें