भारत में कृषि के प्रकार

👉कृषि के प्रकार-
1एपीकल्चरमधुमक्खी पालन
2सेरीकल्चररेशम कीट पालन
3पिसीकल्चरमत्स्य/ मछली पालन
4विटीकल्चरअंगूरों की कृषि
5वर्मीकल्चरकेंचुए का पालन
6होर्टीकल्चरउद्यान/ बागवानी कृषि
👉केंचुआ-
➯पृथ्वी पर प्राकृतिक या जैविक खाद का सबसे अच्छा स्त्रोत केंचुए को ही माना जाता है इसीलिए केंचुए को किसान का मित्र तथा पृथ्वी का पुत्र भी कहते है।

👉बाॅम्बिक्स मोराई-
➯बाॅम्बिक्स मोराई नामक कीट से रेशम प्राप्त होता है।

👉लेसिफर लक्का-
➯लेसिफर लक्का नामक कीट से लाख प्राप्त होता है जिससे लाख के खिलोने तथा चूड़ियाँ बनायी जाती है।

👉एपिस डोरसेटा-
➯एपिस डोरसेटा मधुमक्खी डंक मारने वाली मधुमक्खी होती है।

👉रानी मधुमक्खी-
➯रानी मधुमक्खी केवल सहद देती है।

👉झूमिंग कृषि-
➯झूमिंग कृषि पर्यावरण के लिए हानिकारक मानी जाती है इसीलिए झूमिंग कृषि पुर्णतः प्रतिबंधित कृषि है।
➯झूमिंग कृषि पहाड़ों में स्थान बदल बदल कर की जाती है इसीलिए इसे स्थानान्तरित कृषि भी कहते है।
➯भारत में झूमिंग कृषि मुख्यतः उत्तरी-पूर्वी राज्यों जैसे- असोम, नागालैंड, मणिपुर आदि में की जाती है।

👉झूमिंग कृषि के उपनाम या अन्य नाम-

👉दाजिया/वालरा/चिमाता कृषि-
➯राजस्थान में झूमिंग कृषि को दाजिया/ वालरा/ चिमाता कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉झूमिंग/ झुम कृषि-
➯असोम या पूर्वी राज्यों में झूमिंग कृषि को झुम कृषि / झूमिंग के नाम से जाना जाता है।

👉ओणम कृषि-
➯केरल तथा कर्नाटक में झूमिंग कृषि को ओणम कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉तुंग्या/ टुंग्या कृषि-
➯म्यामार में झूमिंग कृषि को तुंग्या कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉चेना कृषि-
➯श्रीलंका में झूमिंग कृषि को चेना कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉मिल्पा कृषि-
➯मैक्सिको (अमेरिका) में झूमिंग कृषि को मिल्पा कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉रोका कृषि-
➯ब्राजील में झूमिंग कृषि को रोका कृषि के नाम से जाना जाता है।

👉लदांग कृषि-
➯इंडोनेशिया तथा मलेशिया में झूमिंग कृषि को लदांग के नाम से जाना जाता है।

👉फसलों के प्रकार-
1. रबी की फसल
2. खरीफ की फसल
3. जायद की फसल

1. रबी की फसल-
➯रबी की फसल का समय मुख्यतः अक्टूबर में बोकर अप्रैल तक काट ली जाती है।
➯गेहूं, चना, मटर, सरसों, राई आदि रबी फसले  सिंचाई से तैयार होने वाली फसले है।

2. खरीफ की फसल-
➯खरीफ की फसल का समय मुख्यतः जुलाई में बोकर अक्टूबर तक काट ली जाती है।
➯चावल, ज्वार, बाजरा, मक्का, जूट, मूंगफली, कपास, सन, तंबाकू आदि फसले खरीफ की फसले है।

3. जायद की फसल-
➯जायद की फसल का समय मुख्यतः मार्च में बोकर जून तक काट ली जाती है।
➯सब्जिया, तरबूज, खरबूजा, ककड़ी, खीरा, करेला आदि फसले जायद की फसले है।

विषयलिंक
भारत में कृषियहां क्लिक करें
भारत में कृषि की प्रमुख क्रांतियांयहां क्लिक करें
भारत में सिंचाई के प्रमुख साधनयहां क्लिक करें

TopicsLinks
India GKClick here
World GKClick here
Current GKClick here
Rajasthan GKClick here
General ScienceClick here
ResultsClick here
SyllabusClick here
Admit CardClick here
Answer KeyClick here

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें