राजस्थानी साहित्य

👉राजस्थानी साहित्य-
➯राजस्थानी साहित्य को मुख्यतः 5 भागों में विभाजित किया जा सकता है। जैसे-
1. चारण साहित्य
2. जैन साहित्य
3. संत साहित्य
4. लोक साहित्य
5. ब्राह्मण साहित्य

1. चारण साहित्य-
➯चारण साहित्य चारण कवियों के द्वारा लिखे गये है।
➯चारण साहित्य राजस्थानी भाषा का सबसे महत्वपूर्ण साहित्य माना जाता है।
➯चारण साहित्य मुख्यतः वीर रसात्मक होता है।
➯चारण साहित्य में भक्ति रस, शांत रस भी होता है।
➯चारण साहित्य मुख्यतः पद्य में रचे गये है।
➯राव जैतसी रो छंद, अचलदास खींची री वचनिका, पृथ्वीराज रासौ, सूरज प्रकाश, वंश भास्कर आदि चारण साहित्य के उदाहरण है।

2. जैन साहित्य-
➯जैन साहित्य जैन मुनियों के द्वारा लिखे गये है।
➯राजस्थानी साहित्य का प्रथम ग्रंथ वज्रसेन सूरी द्वारा भरतेश्वर बाहुबली घोर 1168 ई. में लिखा गया था। जो की जैन शैली का साहित्य है।

3. संत साहित्य-
➯राजस्थान के संत कवियों के द्वारा लिखे गये ग्रंथ संत साहित्य है।
➯संत साहित्य दादूदयाल, सुंदरदास, रज्जब जी आदि द्वारा लिखे गये है।

4. लोक साहित्य-
➯लोक साहित्य में लोकगीत, लोकगाथा, प्रेमाख्यान, पहेली व कहावते प्रसिद्ध है।

5. ब्राह्मण साहित्य-
➯पण्डितों, विद्वानों, ब्राह्मण कवियों के द्वारा रचित साहित्य ब्राह्मण साहित्य कहलाते है।

👉राजस्थानी साहित्यों के रूप-
1. डिंगल
2. पिंगल

1. डिंगल-
➯डिंगल पश्चिमी राजस्थान (मारवाड़ी) का साहित्यिक रूप है।
➯डिंगल भाषा अधिकांश साहित्य चारण कवियों के द्वारा लिखे गये।
➯डिंगल वीर रसात्मक साहित्य है।
➯विकास गुर्जर अपभ्रंश से हुआ है।
➯डिंगल रूप में डिंगल भाषा के ग्रंथ लिखे गये है।

2. पिंगल-
➯पिंगल ब्रज भाषा एवं पूर्वी राजस्थान का साहित्यिक रूप है।
➯पिंगल भाषा के अधिकांश साहित्य भाट जाति के कवियों द्वारा लिखे गये है।
➯पिंगल श्रृंगार साहित्य है।
➯पिंगल का विकास शौरसेनी अपभ्रंश से हुआ है।
➯पिंगल रूप में पिंगल भाषा के ग्रंथ लिखे गये है।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।