भारत की प्रमुख नदियां

भारत की प्रमुख नदियाॅं या भारत का अपवाह तंत्र या अपवाह प्रणाली

नदी की परिभाषा-
➧धरती की सतह पर लम्बी धारा के रूप में प्रवाहित होने वाले जल को नदी कहते है।

अपवाह तंत्र की परिभाषा-
➧नदी के बहाव क्षेत्र को अपवाह तंत्र कहते है।

भारतीय अपवाह क्षेत्र या भारत में अपवाह तंत्र-
➧भारतीय अपवाह तंत्र को दो भागों में बाटा गया जैसे-
1. हिमालय अपवाह तंत्र
2. प्रायद्वीप भारत अपवाह तंत्र

हिमालय अपवाह तंत्र की विशेषता (हिमालय से निकलने वाली नदियों की विशेषता)-

बारहमासी नदियां-
हिमालय से निकलने वाली नदियों की सबसे बड़ी विशेषता यह होती है की ये नदियां पुरे साल बहती है या वर्ष भर बहती रहती है इसीलिए हिमालय से निकलने वाली नदियों को बारहमासी नदियां कहते है क्योकी हिमालय से निकलने वाली नदियों को जल आपुर्ती हिमालय के हिमनदों से होती रहती है।

सियाचिन ग्लेशियर-
➧क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा ग्लेशियर सियाचिन ग्लेशियर ही है।

गार्ज या केनियन या महाखड्डा-
➧वे नदियां जो अपने मार्ग में कटाव करके गहरी-गहरी घाटीयां तथा खड्डे बनाती है उन्हे गार्ज या केनियन कहते है। जैसे-

1. ग्रैंड केनियन-
➧ग्रैंड केनियन विश्व का सबसे बड़ा गार्ज है।
➧ग्रैंड केनियन उत्तरी अमेरिका में कोलोरैडो नदी के द्वारा बनाया जाता है।

2. सिंधु गार्ज-
➧सिंधु गार्ज भारत का सबसे बड़ा गार्ज है।
➧सिंधु गार्ज जम्मू कश्मीर राज्य में सिंधु नदी के द्वारा बनाया जाता है।

3. शिपकिला गार्ज-
➧शिपकिला गार्ज हिमाचल प्रदेश में सतलज नदी के द्वारा बनाया जाता है।

4. कोरबा गार्ज-
➧कोरबा गार्ज अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मपुत्र नदी के द्वारा बनाया जाता है।

वी आकार की घाटियां ("V" आकृति की घाटियां)-
हिमालय से निकलने वाली नदियां अपने मार्गों में कटाव करके वी आकार की घाटीयां ("V" आकृति की घाटिया) बनाती है जबकी हिमनदों के द्वारा पहाड़ों में लटकती हुई घाटियां बनायी जाती है।

डेल्टा-
➧वे नदियां जो अपने मुहाने पर गिरने से पहले त्रिभुजाकार आकृति वाला मैदान बनाती है उस त्रिभुजाकार आकृति को ही डेल्टा कहते है। जैसे- सुन्दरवन डेल्टा

महाराष्ट्र-
➧भारत में सर्वाधिक नदियों वाला राज्य महाराष्ट्र है।

मणिपुर-
➧मणिपुर भारत का एकमात्र ऐसा राज्य है जिसमें एक भी नदी नहीं है।

भारत की प्रमुख नदियां (विस्तार पूर्वक)-

नदी का नामअधिक जानकारी
सिंधु नदीयहां क्लिक करें
गंगा नदीयहां क्लिक करें
ब्रह्मपुत्र नदीयहां क्लिक करें
सतलुज नदीयहां क्लिक करें

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें