Type Here to Get Search Results !

डूंगरपुर का गुहिल वंश

 डूंगरपुर का गुहिल वंश


डूंगरपुर-

➠डूंगरपुर में गुहिल वंश का शासन था।


डूंगरपुर के गुहिल वंश के प्रमुख राजा-

1. सामन्त सिंह

2. डूंगर सिंह

3. गोपीनाथ

4. उदयसिंह (1497- 1527 ई.)

5. आसकरण (1549- 1580 ई.)

6. जसवंतसिंह-II (1808- 1845 ई.)

7. विजयसिंह (1898- 1918 ई.)


1. सामन्त सिंह-

➠सामन्त सिंह मेवाड़ का गुहिल राजा था।

➠जालौर के राजा कीर्तिपाल सोनगरा ने सामन्त सिंह का हरा दिया था।

➠सामन्त सिंह ने परमारो को हराकर वागड़ पर अधिकार कर लिया था।

➠सामन्त सिंह ने अपनी राजधानी बडौदा को बनाया था।

➠बडौदा राजस्थान के डूंगरपुर जिले में स्थित जगह का नाम है।

➠तराईन के दुसरे युद्ध में सामन्त सिंह पृथ्वीराज चौहान की तरफ से लड़ता हुआ मारा गया था।


कुमार सिंह-

➠कुमार सिंह सामन्त सिंह का छोटा भाई था।

➠कुमार सिंह ने कीर्तिपाल सोनगरा को हराकर मेवाड़ पर पुनः अधिकार कर लिया था।


2. डूंगर सिंह-

➠डूंगर सिंह ने डूंगरपुर को अपनी राजधानी बनाया था।


3. गोपीनाथ-

➠गोपीनाथ ने डूंगरपुर में गेपसागर तालाब का निर्माण करवाया था।


4. उदयसिंह (1497- 1527 ई.)-

➠उदयसिंह खानवा के युद्ध में लड़ता हुआ मारा गया था।

➠उदयसिंह की मृत्यु के बाद वागड़ राज्य का दो भागों में विभाजन हो गया था। जैसे-

(I) डूंगरपुर

(II) बांसवाड़ा

➠वागड़ राज्य का विभाजन कर डूंगरपुर तथा बांसवाड़ा के बीच की सीमा माही नदी को बनाया गया था। अर्थात् माही नदी को डूंगरपुर तथा बांसवाड़ा के मध्य की सीमा मानते हुए वागड़ राज्य का विभाजन किया गया था।


(I) डूंगरपुर-

➠वागड़ राज्य के विभाजन के बाद डूंगरपुर का राजा पृथ्वीराज को बनाया गया था।

➠पृथ्वीराज उदयसिंह का बेटा था।


(II) बांसवाड़ा-

➠वागड़ राज्य के विभाजन के बाद बांसवाड़ा का राजा जगमाल को बनाया गया था।

➠जगमाल उदयसिंह का बेटा था।


5. आसकरण (1549- 1580 ई.)-

➠आसकरण ने अकबर के खिलाफ मारवाड़ के चन्द्रसेन को शरण दी थी।

➠1577 ई. में आसकरण ने अकबर से संधि कर ली थी। लेकिन आसकरण किसी युद्ध में मुगल सेना के साथ नहीं गया था।

➠आसकरण की रानी प्रेमल देवी ने डूंगरपुर में नौलखा बावड़ी का निर्माण करवाया था।


6. जसवंतसिंह द्वितीय (1808- 1845 ई.)-

➠11 दिसम्बर 1818 ई. में जसवंतसिंह द्वितीय अंग्रेजों के साथ संधि कर लेता है।

➠1845 ई. में अंग्रेजों ने जसवंतसिंह को हटा दिया था इसके बाद जसवंतसिंह द्वितीय वृंदावन चला गया था।

➠वृंदावन उत्तर प्रदेश में स्थित है।


7. विजयसिंह (1898- 1918 ई.)-

➠विजयसिंह ने विधवा विवाह को प्रोत्साहित किया था।

➠विजयसिंह ने डूंगरपुर में राम लम्मण बैंक की स्थापना की थी।

➠विजयसिंह ने डूंगरपुर में एडवर्ड सागर का निर्माण करवाया था।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad