Type Here to Get Search Results !

अजंता की गुफाएं (औरंगाबाद, महाराष्ट्र)

अजंता की गुफाएं

(The Caves of Ajanta)


अजंता की गुफाएं (महाराष्ट्र)-

➠अजंता की गुफाएं भारत के महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले में स्थित है।

➠अजंता की गुफाएं महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले की वाघुर नदी के पास स्थित है।


अजंता की गुफाएं (The Caves of Ajanta)-

➠अजंता की गुफाओं से गुप्त काल के चित्र मिलते है।

➠अजंता की गुफाओं से फ्रेस्को एवं टेम्पेरा चित्र मिलते है।

➠अजंता की गुफाओं में बने फ्रेस्को एवं टेम्पेरा चित्रों में प्राकृतिक रंगों का अत्यधिक सुंदरता से मिश्रण एवं प्रयोग किया गया है।


अजंता की गुफाओं की खोज-

➠अजंता की गुफाओं की खोज मद्रास प्रेसीडेंसी के सैनिकों ने की थी तथा मद्रास प्रेसीडेंसी के सैनिकों का प्रमुख जाॅन स्मिथ था अर्थात् अजंता की गुफाओं की खोज जाॅन स्मिथ ने की थी।


अजंता में स्थित कुल गुफाएं-

➠राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) के अनुसार अजंता में 29 गुफाएं मिलती है।

➠भारतीय पुरातत्त्व विभाग (ASI) के अनुसार अंजता में 30 गुफाएं मिलती है।


अजंता की गुफाओं की विशेषताएं-

➠अंजता की गुफा संख्या 1, 2, 9, 10, 16, एवं 17 के चित्र सुरक्षित मिलते है।

➠अजंता में चैत्य और विहार मिले है।

➠अजंता यूनेस्को की विश्व विरास्त सूची में शामिल है।

➠अजंता की गुफा संख्या 1 व 2 उत्तर गुप्तकालीन युग (5वीं से 7वीं शताब्दी) की गुफाएँ है।

➠अजंता की गुफा संख्या 1 में चालुक्य शासक पुलकेशिय द्वितीय को फारस के दूत का स्वागत करते हुए चित्र मिलता है।

➠अजंता की गुफा संख्या 1 में पद्मपाणि बोधिसत्व अवलोकितेश्वर का चित्रांकन मिलता है।

➠अजंता की गुफा संख्या 9 व 10 मौर्योत्तर काल की गुफाएं है।

➠अजंता की गुफा संख्या 9 व 10 सातवाहन शासकों के समय की गुफाएं है।

➠अजंता की गुफा संख्या 16 व 17 गुप्तकालीन गुफाएं है।

➠अजंता की गुफा संख्या 16 व 17 का निर्माण वाकाटक शासक हरिषेण के मंत्री वराहदेव ने करवाया था।

➠अजंता की गुफा संख्या 16 में मरणासन्न राजकुमारी का चित्र मिलता है।

➠मरणासन्न राजकुमारी का चित्र संभवतः आनंद की पत्नी सौंधरा का है।

➠अजंता की गुफा संख्या 17 में माता व शिशु का चित्र मिलता है।

➠माता व शिशु का चित्र संभवतः यशोधरा व राहुल का है।

➠अजंता की गुफा संख्या 17 से महाभिनिष्क्रमण व महापरिनिर्वाण के चित्र मिलते है।

➠अजंता की गुफा संख्या 17 को चित्रशाला कहा जाता है।

➠अजंता की गुफा संख्या 3 एवं 26 से मार विजय की मूर्ति मिलती है।

➠अंजता की गुफा संख्या 3 एवं 26 से मिलती मार विजय की मूर्ति में भगवान बुद्ध काम के देवता मार को पराजित करते हुए दिखाये गए है। और मार को भगवान बुद्ध की पूजा करते हुए दिखाया गया है।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad