भारतीय संविधान की उद्देशिका अथवा प्रस्तावना

-"हम भारत के लोग, भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन, समाजवादी, धर्म निरपेक्ष तथा लोकतन्त्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसकी समस्त जनता को............."

-प्रस्तावना-
-किसी भी देश कि प्रस्तावना मे उस देश के सविधान के उद्देश्य, लक्ष्य और परिचय लिखा होता है उसे उद्देशिका कहते है अर्थात् प्रस्तावना मे सविधान कि सामान्य जानकारी उल्लेखित होती है इसिलिए प्रस्तावना को सविधान का परिचय कहते है
-भारतीय प्रस्तावना का मुख्य उद्देश्य भारतीय नागरीको के लिए न्याय, स्वतंत्रता एंव समान्ता स्थापित करना है
-भारतीय प्रस्तावना का आधार पण्डित जवाहर लाल नेहरू के द्वारा 13 दिसम्बर 1946 को सविधान सभा के समक्ष प्रस्तुत किये गये उद्देश्य प्रस्ताव को ही माना जाता है

-प्रस्तावना के उपनाम-
-(1) सविधान का परिचय-पत्र (N.k पालकी वाला ने कहा था)
-(2) सविधान कि आत्मा/ह्रदय (पण्डित जवाहर लाल नेहरू ने कहा था)
-(3) सविधान कि जन्म पत्री/कुण्डली (K.M मुंशी ने कहा था)
-(4) सविधान कि कुँजी (ब्रिटिश इतिहासकार अर्नेष्ट बार्कर ने कहा था)

-भारतीय सविधान मे प्रस्तावना कि भाषा/प्रारूप अॉष्ट्रेलिया के सविधान से लि गई है लेकिन प्रतावना के प्रथम चार शब्द (हम भारत के लोग) अमेरिका के सविधान से लिए गये है

-प्रस्तावना मे संसोधन-
-भारतीय प्रस्तावना को अबतक केवल एक बार हि संसोधित किया गया है जो कि सन् 1976 के 42 वे संविधान संसोधन के द्वारा प्रस्तावना मे 3 नये शब्द जोड़े गये थे जैसे- 
-(1) समाजवादी
-(2) धर्म निरपेक्ष
-(3) अखण्डता

-भारतीय मुल प्रस्तावना मे कुल 85 शब्द थे भारतीय संविधान के भाग 19 मे प्रतावना को शामिल किया गया है
-प्रस्तावना संविधान का अंग/भाग है जिसे न्यायालय मे परिवर्तित नही किया जा सकता है लेकिन संसोधित किया जा सकता है परन्तु मुल ढ़ाचे मे नही

-प्रस्तावना से सम्बधित प्रमुख वाद/केस/विवाद-
-(1) मदन गोपाल वाद (1957)-
-इस वाद के अनुसार प्रतावना को किसी भी न्यायालय द्वारा परिवर्तित नही किया जा सकता है
-(2) बेरूबरी युनियन वाद (1960)-
-इस वाद के अनुसार प्रस्तावना को संविधान का अंग/भाग नही माना था
-(3) केशवानन्द भारती वाद (1973)-
-इस वाद मे प्रस्तावना को संविधान का अंग/भाग माना गया था तथा इसी केस मे प्रस्तावना को सविधान कि आख कहा गया है

-भारतीय प्रस्तावना मे उपयोग किये गये प्रमुख शब्द-
-(1) हम (एक बार प्रयोग हुआ)
-(2) राष्ट्र (एक बार प्रयोग हुआ)
-(3) व्यक्ति (एक बार प्रयोग हुआ)
-(4) गणराज्य (एक बार प्रयोग हुआ)
-(5) भारत (दो बार प्रयोग हुआ)
-भारतीय संविधान मे हिन्दी प्रारूप मे भारत के लिए भारत शब्द प्रयोग हुआ है जबकी अंग्रेजी प्रारूप मे India शब्द प्रयोग हुआ है

-अॉष्ट्रेलिया-
-विश्व मे सर्वाधिक समय (9 साल) मे तैयार होने वाला संविधान अॉष्ट्रेलिया का है
-अमेरिका-
-विश्व मे सबसे कम समय (4 माह) मे तैयार होने वाला संविधान अमेरिका का है



2 comments:

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें