Type Here to Get Search Results !

चौहान वंश (जालोर के चौहान)

* जालोर के चौहान-
-जालोर के चौहानो का संस्थापक कीर्तिपाल था जिसने जालोर मे चौहान वंश की निव 1181 ई. मे रखी थी।
-जालोर का प्राचीन नाम जबालीपुर था।
-जालोर के दुर्ग को सुवर्ण गिरी दुर्ग भी कहा जाता था व अपभ्रशों मे सोनारगढ़ भी कहा जाता था।

* कान्हड़ देव चौहान-
-कान्हड़ देव चौहान के शासन की जानकारी पद्मनाभ द्वारा रचित कान्हड़दे प्रबंध मे मिलती है।
-कान्हड़ देव चौहान के समकालीन दिल्ली का सुलतान अलाऊद्दीन खिलजी था।

-कान्हड़ देव चौहान व अलाऊद्दीन खिलजी के मध्य विवाद के कारण-
-(1) साम्राज्यवादी महत्त्वकांक्षा
-(2) जालोर का दिल्ली से मालवा जाने वाले मार्ग पर स्थित होना।
-(3) 1299 ई. मे अलाऊद्दीन खिलजी की सैना को मालवा अभियान के दौरान जालोर से नही गुजरने देना।
-(4) मुहणौत नैणसी व पद्मनाभ के अनुसार विरम देव का फिरोजा से विवाह करने से इनकार करना।

-अलाऊद्दीन खिलजी की सिवाणा विजय (1308 ई.)-
-सिवाणा वर्तमान मे बाड़मेर मे स्थित है।
-अलाऊद्दीन खिलजी व शीतलदेव चौहान के मध्य युद्ध हुआ जिसमे अलाऊद्दीन खिलजी की जीत होती है।
-यह युद्ध जीतने के बाद सिवाणा दुर्ग का नाम बदलकर खैराबाद रख दिया गया।
-इस दुर्ग का दुर्ग रक्षक कमालुद्दीन गुर्ग को बनाया गया।

-अलाऊद्दीन खिलजी की जालोर विजय (1311 ई.)-
-1311 ई. मे कान्हड़देव व अलाऊद्दीन खिलजी के मध्य युद्ध हुआ जिसमे अलाऊद्दीन खिलजी की जीत होती है।
-इस युद्ध मे कान्हड़देव व उसका पुत्र विरमदेव मारा गया।
-अलाऊद्दीन  खिलजी ने  जालोर का नाम बदलकर जलालाबाद रख दिया था।
-इस युद्ध मे कान्हड़देव के साथ दहिया सरदार बीका द्वारा विश्वासघात किया गया।
-बीका द्वारा विश्वासघात करने पर बीका की पत्नी ने बीका की हत्या कर दी।
-जालोर विजय अलाऊद्दीन खिलजी की उत्तर भारत की अंतिम विजय थी।

-अलाऊद्दीन खिलजी की राजपुताना विजय का क्रम-
-(1) रणथम्भौर विजय 1301 ई.
-(2) चितौड़ विजय1303 ई.
-(3) सिवाणा विजय 1308 ई.
-(4) जालोर विजय 1311 ई.

Post a Comment

10 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।

Top Post Ad

Below Post Ad