जैसलमेर का भाटी वंश

👉 जैसलमेर का भाटी वंश-
✍ संस्थापक- सरदार सिंह भाटी
✍ स्थापना वर्ष- 1285 ई.
✍ स्थान- भटनेर (वर्तमान हनुमानगढ़)
✍ सरदार भाटी के पुत्र मंगलराय को गजनी के शासक द्वारा पराजित होना पड़ा उसके बाद उसने अपनी राजधानी भटनेर को छोड़कर तनौट को अपनी राजधानी बनाया।
✍ लौद्रवा जैसलमेर के निकट है जौ जैन मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।
✍ 1155 ई. में भाटी राजा जैसल देव भाटी द्वारा जैसलमेर की नीव रखी गई।

✍ जैसलमेर के भाटी वंश कि राजधानियों का क्रम-
1. भटनेर
2. तनौट
3. लौदवा
4. जैसलमेर

✍ 1570 ई. में नागौर दरबार में जैसलमेर के हरराय भाटी ने भाग लिया था। तथा मुगलों के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित किये और मुगलों की अधिनता स्वीकार की।
✍ जैसलमेर के शासक मूलराज द्वारा 1818 ई. में अंग्रेजो के साथ सहायक संधि कि गई।
✍ आजादी के समय जैसलमेर का शासक जवाहर सिंह था।
✍ जवाहर सिंह के समय 3 अप्रेल 1946 को सागरमल को जिंदा जलाया गया था।

4 comments:

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।