राजस्थान के संभाग

👉 राजस्थान के संभाग-
✍जिला स्तर पर सबसे बड़ा प्रशासनिक अधिकारी जिला कलेक्टर होता है।
✍संभाग स्तर पर सबसे बड़ा प्रशासनिक अधिकारी संभागीय आयुक्त होता है।

👉 संभाग-
✍जिलों के समूह को संभाग कहा जाता है।

👉 विकेन्द्रीकरण-
✍जिम्मेदारियों का विभाजन विकेन्द्रीकरण कहलाता है।
✍संभाग बनाने का सबसे बड़ा मुख्य उद्देश्य प्रशासनिक कार्यो का विकेन्द्रीकरण करना होता है।

👉 धारा 144-
✍धारा 144 के अनुसार जिले में शांति बनाने का कार्य जिला कलेक्टर करता है।

👉 1 नवम्बर, 1956-
✍राजस्थान में संभाग बनाने की सुरुआत सन् 1949 में सुरु हुई थी तथा 1 नवम्बर, 1956 तक राजस्थान में कुल 5 संभाग बनाये गये थे। जैसे-
1. बीकानेर संभाग
2. जयपुर संभाग
3. जोधपुर संभाग
4. कोटा संभाग
5. उदयपुर संभाग

👉 सन् 1962-
✍राजस्थान में मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया के द्वारा अप्रेल 1962 में पहली बार संभाग बनाने की परम्परा को बंद कर दिया गया था।

👉 मोहनलाल सुखाड़िया-
✍राजस्थान में सबसे लम्बा कार्यकाल वाला मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया थे।
✍मोहनलाल सुखाड़िया को आधुनिक राजस्थान का निर्माता कहा जाता है।

👉 26 जनवरी, 1987-
✍अप्रेल 1962 बंद की गई संभागीय व्यवस्था को 26 जनवरी, 1987 में मुख्यमंत्री हरिदेव जोशी के द्वारा फिर से सुरु किया गया।

👉 राजस्थान के संभाग-
✍वर्तमान में राजस्थान में कुल 7 संभाग है। जैसे-
1. जयपुर संभाग-
✍कुल जिले- 5 (जयपुर, झुन्झुनू, सीकर, अलवर, दौसा)
✍कुल क्षेत्रफल- 36,615 वर्ग किमी
✍विशेषता-
✍जयपुर- यह क्षेत्रफल में जयपुर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
✍दौसा- यह क्षेत्रफल में जयपुर संभाग का सबसे छोटा जिला है।
✍जयपुर संभाग राजस्थान का एकमात्र ऐसा संभाग जिसमें 5 जिले है।
✍यह राजस्थान का सर्वाधिक जनसंख्या वाला संभाग है।

2. बीकानेर संभाग-
✍कुल जिले- 4 (बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, श्री गंगानगर)
✍कुल क्षेत्रफल- 64,708 वर्ग किमी
✍स्थिती- सबसे उत्तरी संभाग
✍विशेषता-
बीकानेर- यह क्षेत्रफल में बीकानेर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
हनुमानगढ़- यह क्षेत्रफल में बीकानेर संभाग का सबसे छोटा जिला है।
✍यह राजस्थान में सबसे कम नदियों वाला संभाग है।

3. उदयपुर संभाग-
✍कुल जिले- 6 (उदयपुर, चित्तोड़गढ़, प्रतापगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, राजसमंद)
✍कुल क्षेत्रफल- 36,942 वर्ग किमी
✍विशेषता-
उदयपुर- यह क्षेत्रफल में उदयपुर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
डूंगरपुर- यह क्षेत्रफल में उदयपुर संभाग का सबसे छोटा जिला है।

4. कोटा संभाग-
✍कुल जिले- 4 (कोटा, बारा, बूंदी, झालावाड़)
✍कुल क्षेत्रफल- 24,204 वर्ग किमी
✍विशेषता-
कोटा- यह क्षेत्रफल में कोटा संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
✍बूंदी- यह क्षेत्रफल में कोटा संभाग का सबसे छोटा जिला है।
✍कोटा संभाग को हाड़ौती संभाग भी कहते है।
✍यह राजस्थान का सर्वाधिक नदियों तथा सर्वाधिक वर्षा वाला संभाग है।

5. जोधपुर संभाग-
✍कुल जिले- 6 (जोधपुर, जैसलमेर, जालोर, बाड़मेर, पाली, सिरोही)
✍कुल क्षेत्रफल- 1,17,801 वर्ग किमी
✍स्थिती- सबसे पश्चिमी संभाग
✍विशेषता-
जैसलमेर- यह क्षेत्रफल में जोधपुर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
सिरोही- यह क्षेत्रफल में बीकानेर संभाग का सबसे छोटा जिला है।
✍यह क्षेत्रफल में राजस्थान का सबसे बड़ा संभाग है।
✍यह राजस्थान में सबसे कम वर्षा वाला संभाग है।

6. अजमेर संभाग-
✍स्थापना- 1987
✍कुल जिले- 4 (अजमेर, नागौर, टोंक, भीलवाड़ा)
✍कुल क्षेत्रफल- 43,848 वर्ग किमी
✍स्थिती- केन्द्रिय संभाग
✍मुख्यमंत्री- हरिदेव जोशी
✍विशेषता-
नागौर- यह क्षेत्रफल में अजमेर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
टोंक- यह क्षेत्रफल में अजमेर संभाग का सबसे छोटा जिला है।

7. भरतपुर संभाग-
✍स्थापना- 4 जून, 2004
✍कुल जिले- 4 (भरतपुर, धौलपुर, सवाई माधोपुर, करौली)
✍कुल क्षेत्रफल- 18,186 वर्ग किमी
✍स्थिती- सबसे पूर्वी संभाग
✍मुख्यमंत्री- वसुंधरा राजे
✍विशेषता-
करौली- यह क्षेत्रफल में भरतपुर संभाग का सबसे बड़ा जिला है।
✍धौलपुर- यह क्षेत्रफल में भरतपुर संभाग का सबसे छोटा जिला है।
✍यह राजस्थान का सबसे नवीनतम संभाग है।
✍यह संभाग जयपुर तथा कोटा संभाग को काटकर बनाया गया था।
✍भरतपुर, धौलपुर- ये जिले पहले जयपुर संभाग में आते थे।
✍करौली, सवाई माधोपुर- ये जिले पहले कोटा संभाग में आते थे।

11 comments:

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।