Type Here to Get Search Results !

वर्षा ऋतु (राजस्थान की जलवायु)

👉 राजस्थान में वर्षा ऋतु (राजस्थान की जलवायु)-

👉 वर्षा ऋतु-
✍ वर्षा ऋतु का समय- मध्य जून से सितम्बर तक

👉 राजस्थान में वर्षा-
✍ राजस्थान में अधिकांश वर्षा दक्षिणी-पूर्वी राजस्थान में होती है।
✍ राजस्थान में सर्वाधिक वर्षा बंगाल की खाड़ी के मानसून से होती है।

👉 मानसून-
✍ मानसून शब्द की उत्पत्ति अरबी भाषा के मौसिन शब्द से हुई है।
✍ अरबी भाषा के मौसिन शब्द का अर्थ मौसम होता है।

👉 हिप्पोकस या हिप्पोलस-
✍ विश्व में सर्वप्रथम मानसून का खोजकर्ता अरबी नाविक (यात्री) हिप्पोलस को माना जाता है।

👉 बांसवाड़ा-
✍ राजस्थान में मानसून सर्वप्रथम 16 जून (15 जून से 20 जून के बीच) को बांसवाड़ा जिले में प्रवेश करता है। इसीलिए बांसवाड़ा को मानसून का प्रवेश द्वार भी कहते है।

👉 राजस्थान में औसत वर्षा-
✍ राजस्थान में औसत वर्षा- 57.7 सेंटीमीटर
✍ अजमेर में औसत वर्षा- 57.7 सेंटीमीटर

👉 जुलाई-
✍ राजस्थान में जुलाई के महीने में सर्वाधिक वर्षा होती है।

👉 झालावाड़-
✍ राजस्थान में सर्वाधिक वर्षा वाला जिला झालावाड़ है।
✍ झालावाड़ में वार्षिक 150 सेंटीमीटर वर्षा होती है।

👉 जैसलमेर-
✍ राजस्थान में सबसे कम वर्षा वाला जिला जैसलमेर है।
✍ जैसलमेर में वार्षिक 15 से 20 सेंटीमीटर वर्षा होती है।

👉 माऊंट आबू (सिरोही)-
✍ राजस्थान में सर्वाधिक वर्षा वाला स्थान सिरोही जिले का माऊंट आबू है।

👉 सम गांव (जैसलमेर)-
✍ राजस्थान में सबसे कम वर्षा वाला स्थान जैसमेर का सम गांव है।

👉 दक्षिणी-पश्चिमी मानसून-
✍ राजस्थान में वर्षा ऋतु को दक्षिणी-पश्चिमी मानसून के नाम से पुकारा जाता है।
✍ राजस्थान में दक्षिणी-पश्चिमी मानसून को दो भागो में बाटा गया है। जैसे-
1. अरब सागर वाला मानसून
2. बंगाल की खाड़ी वाला मानसून

1. अरब सागर वाला मानसून-
✍ राजस्थान में सर्वप्रथम अरब सागर वाला मानसून प्रवेश करता है।
✍ राजस्थान में अरब सागर वाला मानसून सर्वप्रथम बांसवाड़ा जिले में प्रवेश करता है।
✍ राजस्थान के दक्षिणी हिस्से जैसे- डूंगरपुर, प्रतापगढ़, उदयपुर तथा बांसवाड़ा जिलों में अरब सागर वाले मानसून से ही वर्षा होती है।

👉 पुरवा या पुरवाई-
✍ राजस्थान में बंगाल की खाड़ी के मानसून से चलने वाली पूर्वी पवनों को पुरवा या पुरवाई कहते है।

2. बंगाल की खाड़ी वाला मानसून-
✍ राजस्थान में सर्वाधिक वर्षा बंगाल की खाड़ी वाले मानसून से होती है।
✍ राजस्थान में बंगाल की खाड़ी वाला मानसून सर्वप्रथम हाड़ौती प्रदेश (कोटा, बारा, बूंदी, झालावाड़) में प्रवेश करता है।

👉 राजस्थान में अकाल-
✍ कर्नल जेम्स टाॅड ने राजस्थान के अकालो को प्राकृतिक रोग की उपाधि दी है।

👉 राजस्थान में अकाल पड़ने के प्रमुख कारण-
✍ राजस्थान में अनियमित तथा अपर्याप्त वर्षा का होना।
✍ अरावली का विस्तार।
✍ मरुस्थल का विस्तार।
✍ वनस्पति का अभाव।
✍ पवनों की दिशा।

👉 राजस्थान के प्रसिद्ध अकाल-

1. चालीसा अकाल-
✍ समय- विक्रम संवत 1840 (1783 ई.)

2. पंतकाल अकाल-
✍ समय- विक्रम संवत 1869 (1812 ई.)

3. सहसा भदुसा अकाल-
✍ समय- विक्रम संवत 1899 (1842 ई.)

4. त्रिकाल अकाल-
✍ समय- विक्रम संवत- 1925 (1869 ई.)

5. छप्पनिया अकाल-
✍ समय- विक्रम संवत 1956 (1899 ई.)
✍ छप्पनिया अकाल के दौरान मेेवाड़ के लोगो ने खेजड़ी वृक्ष की लकड़ी (छोडे) खाकर अपना जीवन व्यतीत किया था।

Post a Comment

2 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. Replies
    1. धन्यवाद, gkclass.com में आपका स्वागत है।

      Delete

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।

Top Post Ad

Below Post Ad