चीनी उद्योग (राजस्थान के प्रमुख उद्योग)

👉 चीनी उद्योग (राजस्थान के प्रमुख उद्योग)-
✍ राजस्थान में वर्तमान में कुल तीन चीनी मिल है।




👉 गन्ना-
✍ खेत में सर्वाधिक समय तक खड़ी रहने वाली फसल गन्ना ही है।
✍ गन्ना एकमात्र ऐसी फसल है जो एक बार बोने से आने वाले 3 वर्षो तक गन्ने की फसल प्राप्त होती है।

👉 भारत-
✍ भारत में सर्वाधिक गन्ने का उत्पादन करने वाला राज्य उत्तरप्रदेश है।
✍ भारत में सर्वाधिक चीनी का उत्पादन करने वाला राज्य महाराष्ट्र है।
 भारत में सर्वाधिक चीनी मिलों वाला राज्य भी महाराष्ट्र ही है।

👉 राजस्थान-
✍ राजस्थान में सर्वाधिक गन्ने का उत्पादन करने वाला जिला चित्तौड़गढ़ है।

👉 राजस्थान की चीनी मिले-
✍ राजस्थान में वर्तमान में कुल तीन चीनी मिले है जैसे-
1. दी मेवाड़ शुगर मिल
2. दी गंगानगर शुगर मिल
3. केशवरायपाटन शुगर मिल

1. दी मेवाड़ शुगर मिल-
✍ स्थित- भोपाल सागर, चित्तौड़गढ़ (राजस्थान)
✍ स्थापना- सन् 1932
✍ विशेषता-
✍ यह मिल राजस्थान की प्रथम निजी क्षेत्र की चीनी मिल है।

2. दी गंगानगर शुगर मिल-
✍ स्थित- कमिनपुरा, श्री गंगानगर (राजस्थान)
✍ स्थापना- सन् 1937
✍ विशेषता-
✍ यह राजस्थान की सार्वजनिक क्षेत्र की प्रथम चीनी मिल है।
✍ स्थापना के समय यह मिल निजी क्षेत्र की मिल थी। 
✍ सन् 1956 में इस मिल को निजी क्षेत्र से सार्वजनिक क्षेत्र में शामिल कर लिया गया था।
✍ इस मिल में चुकन्दर से चीनी बनायी जाती है।
✍ इस मिल में चुकन्दर से चीनी बनाने का कार्य सन् 1968 में प्रारम्भ हुआ।
✍ इस मिल के द्वारा "राॅयल हैरिटेज लिकर" नामक शराब की स्पीट बनायी जाती है।
✍ (स्पीट का अर्थ- शराब की कच्ची अवस्था)

3. केशवरायपाटन शुगर मिल-
✍ स्थित- केशवरायपाटन, बूंदी (राजस्थान)
✍ स्थापना- सन् 1965
✍ विशेषता-
✍ यह मिल राजस्थान की एकमात्र सहकारी क्षेत्र की शुगर मिल है।
✍ यह मिल राजस्थान की एकमात्र ऐसी चीनी मिल है जो की स्वतंत्रता के बाद स्थापित की गई है।

No comments:

Post a Comment

कृपया कमेंट में कोई भी लिंक ना डालें