भूकंप महत्वपूर्ण तथ्य (Earthquake Significant Facts)

भूकंप (Earthquake) 
👉सिस्मोलाॅजी (Seismology)-
➯विज्ञान की वह शाखा जिसमें भूकंप का अध्ययन किया जाता है उसे सिस्मोलाॅजी कहते है।

👉भूकंप (Earthquake)-
➯पृथ्वी पर अचानक से पैदा हुए कंपनों को भूकंप कहा जाता है।

👉भूकंप आने के कारण-
1. ज्वालामुखी का फटना।
2. हाइड्रोजन तथा परमाणु बमों का परिक्षण करना।
3. पथ्वी की घूर्णन गति।
4. पृथ्वी की पलेटों (चट्टान के टुकड़े) में गति।

👉सिस्मोग्राफ (Seismograph)-
➯सिस्मोग्राफ नामक यंत्र की सहायता से भूकंप की तरंगों का अध्ययन किया जाता है। या भूकंप का पता लगाया जाता है।

👉रिक्टर स्केल (Richter scale)-
➯रिक्टर स्केल से भूकंप की तरंगों की गति मापी जाती है।
➯रिक्टर स्केल में 0 से 9 तक मान होता है।
➯जिस भूकंप का मान 7 रिक्टर स्केल होता है वह भूकंप विनाशकारी श्रेणी का भूकंप माना जाता है।

👉मरकेली स्केल (Mercalli Scale)-
➯मरकेली स्केल से भी भूकंप की तरंगों की गति मापी जाती है।
➯मरकेली स्केल में 1 से 12 तक मान होता है।

👉प्रशांत महासागर (Pacific Ocean)-
➯विश्व में सर्वाधिक भूकंप प्रशांत महासागर में अाते है।

👉एशिया महाद्वीप (Asia Continent)-
➯विश्व में सर्वाधिक भूकंपों वाला महाद्वीप एशिया महाद्वीप है।

👉आॅस्ट्रेलिया महाद्वीप (Australia Continent)-
➯विश्व में सबसे कम भूकंपों वाला महाद्वीप अाॅस्ट्रेलिया महाद्वीप है।

👉जापान (Japan)-
➯विश्व में सर्वाधिक भूकंपों वाला देश जापान है।

👉भारत में भूकंप (Earthquake In India)-
➯भारत में सर्वाधिक भूकंप वाला क्षेत्र हिमाचल प्रदेश है।
➯भारत में भूकंप की दृष्टि से सबसे सुरक्षित क्षेत्र प्रायद्वीप भारत है।
➯भारत में भूंकप से सबसे ज्यादा विनाश होने की संभावना दिल्ली में बनी रहती है।

👉अधिकेंद्र/Focus-
➯वह स्थान जहाँ भूकंप उत्पन या पैदा होता है उसे अधिकेंद्र कहते है।

👉उपरिकेंद्र/Epicenter-
➯वह स्थान जहाँ धरातल पर सबसे पहले भूकंपीय लहरों या तरंगों को महसुस किया जाता है उस स्थान को उपरिकेंद्र कहते है।

👉रेडाॅन गैस (Radon Gas)-
➯भूकंप आने से पहले वायुमण्डल में रेडाॅन गैसों की ही मात्रा बढ़ जाती है।

👉प्रत्यास्थता ऊर्जा (Elastic Energy)-
➯भूकंप में प्रत्यास्था ऊर्जा ही होती है।

👉प्रत्यास्थता ऊर्जा के उदाहरण-
1. खींचा हुआ रबर
2. खींची गई स्प्रिंग
3. फुटबाॅल का जमीन से टकराने पर वापस हवा में उछलना प्रत्यास्थता ऊर्जा का उदाहरण है।

👉भूकंप की तरंगे (Waves of Earthquake)-
➯भूकंप में मुख्यतः तीन प्रकार की तरंगे या लहरे पायी जाती है जैसे-
1. P-तरंगे या लहरे
2. S-तरंगे या लहरे
3. L-तरंगे या लहरे

1. P-तरंगे या लहरे (Primary Waves)-
➯P-तरंगे भूकंप की सबसे तेज गति से चलने वाली तरंगे होती है।
➯P-तरंगे 8 km/Sec से 14 Km/Sec तक की रफतार से चलती है।

➯P-तरंगों के उपनाम (P-Waves Nickname)-
1. संपीड़ित तरंगे
2. ध्वनि तरंगे
3. अनुदैर्ध्य तरंगे

2. S-तरंगे या लहरे (Secondary Waves)-
S-तरंगों को द्वितीय तरंगे तथा अनुप्रस्थ तरंगे भी कहते है।

3. L-तरंगे या लहरे (Long Waves)-
➯L-तरंगो को धरातलीय तरंगे भी कहते है।
➯भूकंप के दौरान सर्वाधिक हानि पहुंचाने वाली तरंगे L-तरंगे ही होती है।

No comments:

Post a comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।