भारत की जनगणना

भारत की जनगणना का इतिहास-

जनगणना का उल्लेख- ऋग्वेद, कौटिल्य (चाणक्य) के द्वारा रचित संस्कृत ग्रंथ अर्थशास्त्र, अबुल फजल के आइन-ए-अकबरी ग्रंथ में जनगणना का उल्लेख मिलता है।


विश्व में सर्वप्रथम जनगणना- विश्व में सर्वप्रथम अनियमित रूप से जनगणना स्वीडन में सन् 1749 में की गई थी। तथा विश्व में सर्वप्रथम नियमित रूप से जनगणना अमेरिका में 1790 में की गई थी।


भारत में सर्वप्रथम जनगणना- भारत में सर्वप्रथम अनियमित रूप से जनगणना सन् 1872 में ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड मेयो के द्वारा कराई गयी थी। तथा भारत में सर्वप्रथम नियमित रूप से जनगणना 1881 में लार्ड रिपन के द्वारा कराई गयी थी।


विषय- भारतीय संविधान में जनगणना संघ सूची का विषय था परन्तु 42वें संविधान संशोधन 1976 के बाद जनगणना समवर्ती सूची में जोड़ दिया गया था।


कार्य- भारत में जनगणना का कार्य गृह मंत्रालय के द्वारा कराया जाता है। जनगणना का कार्य जनगणना आयुक्त या महापंजीयक के द्वारा कराई जाती है।


भारत में 19वीं शताब्दी की जनगणनाएं- 19वीं शताब्दी में भारत में कुल तीन जनगणनाएं हुई थी। जैसे-

1. भारत में 19वीं शताब्दी की पहली जनगणना- 1872

2. भारत में 19वीं शताब्दी की दूसरी जनगणना- 1881

3. भारत में 19वीं शताब्दी की तीसरी व अंतिम जनगणना- 1891


भारत में 20वीं शताब्दी की जनगणनाएं- 20वीं शताब्दी में भारत में कुल 10 जनगणनाएं हुई थी। जैसे-

1. भारत में 20वीं शताब्दी की पहली जनगणना- 1901

2. भारत में 20वीं शताब्दी की दूसरी जनगणना- 1911

3. भारत में 20वीं शताब्दी की तीसरी जनगणना- 1921

4. भारत में 20वीं शताब्दी की चौथी जनगणना- 1931

5. भारत में 20वीं शताब्दी की पांचवी व स्वतंत्रता से पूर्व अंतिम जनगणना- 1941

6. भारत में 20वीं शताब्दी की छठी व स्वतंत्रता के बाद प्रथम जनगणना- 1951

7. भारत में 20वीं शताब्दी की सातवीं जनगणना- 1961

8. भारत में 20वीं शताब्दी की आठवीं जनगणना- 1971

9. भारत में 20वीं शताब्दी की नौवीं जनगणना- 1981

10. भारत में 20वीं शताब्दी की दसवीं व अंतिम जनगणना- 1991


भारत में 21वीं शताब्दी की जनगणनाएं- 21वीं शताब्दी में भारत में कुल 2 जनगणनाएं हुई है। जैसे-

1. भारत में 21वीं शताब्दी की पहली जनगणना- 2001

2. भारत में 21वीं शताब्दी की दूसरी जनगणना- 2011

3. भारत में 21वीं शताब्दी की तीसरी जनगणना 2021 में होनी है।


भारत में कुल जनगणनाएं- 2011 की जनगणना तक भारत में कुल 15 जनगणनाएं हो चुकी है जिसमें 1 अनियमित जनगणना व 14 नियमित जनगणना हो चुकी है।


भारत में स्वतंत्रता से पहले जनगणनाएं- स्वतंत्रता से पहले भारत में कुल 8 जनगणनाएं हो चुकी है जिसमें 1 अनियमित जनगणना व 7 नियमित जनगणना हो चुकी है। जैसे-

1. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व पहली व अनियमित जनगणना- 1871

2. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व दूसरी व नियमित रूप से पहली जनगणना- 1881

3. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व तीसरी व नियमित रूप से दूसरी जनगणना- 1891

4. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व चौथी व नियमित रूप से तीसरी जनगणना- 1901

5. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व पांचवी व नियमित रूप से चौथी जनगणना- 1911

6. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व छठी व नियमित रूप से पांचवी जनगणना- 1921

7. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व सातवीं व नियमित रूप से छठी जनगणना- 1931

8. भारत में स्वतंत्रता से पूर्व आठवीं व नियमित रूप से सातवीं जनगणना- 1941


भारत में स्वतंत्रता के बाद जनगणनाएं- स्वतंत्रता के बाद 2011 की जनगणना तक भारत में कुल 7 जनगणनाएं हो चुकी है। जैसे-

1. भारत में स्वतंत्रता के बाद पहली व नियमित रूप से आठवीं जनगणना- 1951

2. भारत में स्वतंत्रता के बाद दूसरी व नियमित रूप से नौवीं जनगणना- 1961

3. भारत में स्वतंत्रता के बाद तीसरी व नियमित रूप से दसवीं जनगणना- 1971

4. भारत में स्वतंत्रता के बाद चौथी व नियमित रूप से ग्यारहवीं जनगणना- 1981

5. भारत में स्वतंत्रता के बाद पांचवी व नियमित रूप से बारहवीं जनगणना- 1991

6. भारत में स्वतंत्रता के बाद छठी व नियमित रूप से तेरहवीं जनगणना- 2001

7. भारत में स्वतंत्रता के बाद सातवीं व नियमित रूप से चौदहवीं जनगणना- 2011


जनगणना दिवस- विश्व में प्रतिवर्ष 11 जुलाई के दिन जनगणना दिवस मनाया जाता है। जनगणना दिवस मनाने का प्रस्ताव UNDP के द्वारा 11 जुलाई 1987 को रखा गया था। विश्व में पहली बार जनगणना दिवस 11 जुलाई 1989 को मनाया गया था।


UNDP का पूरा नाम-

English- United Nations Development Programme

हिंदी में- संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम

2 comments:

  1. Very useful content for government job & general knowledge

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद, जीके क्लास में आपका स्वागत है।

      Delete

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।