भारत की अर्थव्यवस्था एक परिचय

 भारतीय अर्थव्यवस्था का परिचय


अर्थशास्त्र-

➠आर्थिक गतिविधियों का अध्ययन ही अर्थशास्त्र कहलाता है। अर्थात् धन संबंधि मामलों का अध्ययन ही अर्थशास्त्र कहलाता है।

➠आर्थिक गतिविधियों में वस्तु और सेवा का उत्पादन, उपभोग तथा पैसों का लेनदेन शामिल है।

➠अर्थशास्त्र का जनक Adam Smith को कहा जाता है।


अर्थव्यवस्था-

➠जब किसी देश या राज्य की आर्थिक गतिविधियों के संचालन के लिए अपनाये जाने वाले नियम तथा नीतियां ही अर्थव्यवस्था कहलाती है।

➠अर्थव्यवस्था के दो मुख्य प्रकार है जैसे-

1. पूंजीवाद (Capitalism)

2. साम्यवाद (Communism)


1. पूंजीवाद (Capitalism)-

➠पूंजीवादी स्वतंत्रता के समर्थक हैं।

➠पूंजीवाद में निजी संपत्ति को मान्यता देता है।

➠पूंजीवाद में मुक्त बाजार व्यवस्था है। अर्थात् बाजार पर कोई सरकारी नियंत्रण नहीं हाता है।

➠पूंजीवाद में संसाधनो का वितरण योग्यता (मेरिट) के आधार पर किया जाता है।

➠पूंजीवाद में लोकतांत्रिक शासन है।

➠पूंजीवादी अहिंसा का समर्थन करते है।

➠पूंजीवाद में धर्म व्यक्तिगत आस्था का विषय है।

➠पूंजीवाद में वर्ग संघर्ष के साथ-साथ वर्ग सहयोग को भी मानते है।

➠पूंजीवाद में अधिकारों पर अधिक बल दिया जाता है।

➠पूंजीवाद का मुख्य विचारक Adam Smith है।

➠Adam Smith की पुस्तक का नाम The Wealth of Nations (1776) है।


2. साम्यवाद (Communism)-

➠साम्यवादी समानता के समर्थक है।

➠साम्यवाद में निजी संपत्ति को मान्यता नहीं देते है।

➠साम्यवाद में बाजार पर पूर्णतः सरकारी नियंत्रण होता है।

➠साम्यवाद में संसाधनों का वितरण आवश्यकता के आधार पर किया जाता है।

➠साम्यवाद में तानाशाही शासन है।

➠साम्यवादी हिंसा का समर्थन करते है।

➠साम्यवादी धार्मिक रूप से नाश्तिक होते है।

➠साम्यवाद में धर्म की तुलना अफिम से की गई है।

➠साम्यवाद में वर्ग संघर्ष को मानते है।

➠साम्यवाद में कर्त्तव्यों पर अधिक बल दिया जाता है।

➠साम्यवाद का मुख्य विचारक कार्ल मारर्स है।

➠कार्ल मारर्स की पुस्तकों का नाम दास केपिटल तथा Communist Manitesto है।


विश्व (World)-

➠विश्व में पहली बार साम्यवादी क्रांति (1917) रूस में हुई थी।

➠रूस की साम्यवादी क्रांति व्लादिमीर लेनिन के नेतृत्व में हुई थी।

➠1949 में चीन में साम्यवादी शासन माओत्से तुंग (Mao Zedong) के नेतृत्व में स्थापित हुआ था।

➠1959 में क्यूबा (Cuba) में फिदेल कास्त्रो (Fidel Castro) के नेतृत्व में साम्यवादी क्रांति की स्थापना हुई थी।

➠1991 में सोवियत संघ Union of Soviet Socialist Republics (USSR) का विघटन हुआ इससे साम्यवाद व पूंजीवाद के बीच शीत युद्ध खतम हो गया था।


भारत (India)-

➠भारत में स्वतंत्रता के बाद मिश्रित अर्थव्यवस्था का मोडल अपनाया गया जिसमें समाजवाद व पूंजीवाद का मिश्रण है। (समाजवाद = साम्यवाद - नकारात्मक विचार) अर्थात् बाजार पर सरकारी व निजी दोनों क्षेत्रों का प्रभाव था। [सरकारी क्षेत्र (Government Sector)  = सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector)]

➠मिश्रित अर्थव्यवस्था में हमारा झकाव समाजवाद की तरफ था इसी कारण उत्पादन का स्तर नहीं बढ़ सका तथा रोजगार के अवसर सर्जित नहीं हो सके।

➠1991 में भारतीय अर्थव्यवस्था में एक संकट उत्पन्न हो गया था जिसके बाद आर्थिक सुधार लागू किये गये तथा अर्थव्यवस्था का झुकाव पूंजीवाद की ओर होने लगा था।

➠चीन के द्वारा 1978 में आर्थिक सुधार लागू किय गये थे।


No comments:

Post a Comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।