Type Here to Get Search Results !

भारत की अर्थव्यवस्था एक परिचय

 भारतीय अर्थव्यवस्था का परिचय


अर्थशास्त्र-

➠आर्थिक गतिविधियों का अध्ययन ही अर्थशास्त्र कहलाता है। अर्थात् धन संबंधि मामलों का अध्ययन ही अर्थशास्त्र कहलाता है।

➠आर्थिक गतिविधियों में वस्तु और सेवा का उत्पादन, उपभोग तथा पैसों का लेनदेन शामिल है।

➠अर्थशास्त्र का जनक Adam Smith को कहा जाता है।


अर्थव्यवस्था-

➠जब किसी देश या राज्य की आर्थिक गतिविधियों के संचालन के लिए अपनाये जाने वाले नियम तथा नीतियां ही अर्थव्यवस्था कहलाती है।

➠अर्थव्यवस्था के दो मुख्य प्रकार है जैसे-

1. पूंजीवाद (Capitalism)

2. साम्यवाद (Communism)


1. पूंजीवाद (Capitalism)-

➠पूंजीवादी स्वतंत्रता के समर्थक हैं।

➠पूंजीवाद में निजी संपत्ति को मान्यता देता है।

➠पूंजीवाद में मुक्त बाजार व्यवस्था है। अर्थात् बाजार पर कोई सरकारी नियंत्रण नहीं हाता है।

➠पूंजीवाद में संसाधनो का वितरण योग्यता (मेरिट) के आधार पर किया जाता है।

➠पूंजीवाद में लोकतांत्रिक शासन है।

➠पूंजीवादी अहिंसा का समर्थन करते है।

➠पूंजीवाद में धर्म व्यक्तिगत आस्था का विषय है।

➠पूंजीवाद में वर्ग संघर्ष के साथ-साथ वर्ग सहयोग को भी मानते है।

➠पूंजीवाद में अधिकारों पर अधिक बल दिया जाता है।

➠पूंजीवाद का मुख्य विचारक Adam Smith है।

➠Adam Smith की पुस्तक का नाम The Wealth of Nations (1776) है।


2. साम्यवाद (Communism)-

➠साम्यवादी समानता के समर्थक है।

➠साम्यवाद में निजी संपत्ति को मान्यता नहीं देते है।

➠साम्यवाद में बाजार पर पूर्णतः सरकारी नियंत्रण होता है।

➠साम्यवाद में संसाधनों का वितरण आवश्यकता के आधार पर किया जाता है।

➠साम्यवाद में तानाशाही शासन है।

➠साम्यवादी हिंसा का समर्थन करते है।

➠साम्यवादी धार्मिक रूप से नाश्तिक होते है।

➠साम्यवाद में धर्म की तुलना अफिम से की गई है।

➠साम्यवाद में वर्ग संघर्ष को मानते है।

➠साम्यवाद में कर्त्तव्यों पर अधिक बल दिया जाता है।

➠साम्यवाद का मुख्य विचारक कार्ल मारर्स है।

➠कार्ल मारर्स की पुस्तकों का नाम दास केपिटल तथा Communist Manitesto है।


विश्व (World)-

➠विश्व में पहली बार साम्यवादी क्रांति (1917) रूस में हुई थी।

➠रूस की साम्यवादी क्रांति व्लादिमीर लेनिन के नेतृत्व में हुई थी।

➠1949 में चीन में साम्यवादी शासन माओत्से तुंग (Mao Zedong) के नेतृत्व में स्थापित हुआ था।

➠1959 में क्यूबा (Cuba) में फिदेल कास्त्रो (Fidel Castro) के नेतृत्व में साम्यवादी क्रांति की स्थापना हुई थी।

➠1991 में सोवियत संघ Union of Soviet Socialist Republics (USSR) का विघटन हुआ इससे साम्यवाद व पूंजीवाद के बीच शीत युद्ध खतम हो गया था।


भारत (India)-

➠भारत में स्वतंत्रता के बाद मिश्रित अर्थव्यवस्था का मोडल अपनाया गया जिसमें समाजवाद व पूंजीवाद का मिश्रण है। (समाजवाद = साम्यवाद - नकारात्मक विचार) अर्थात् बाजार पर सरकारी व निजी दोनों क्षेत्रों का प्रभाव था। [सरकारी क्षेत्र (Government Sector)  = सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector)]

➠मिश्रित अर्थव्यवस्था में हमारा झकाव समाजवाद की तरफ था इसी कारण उत्पादन का स्तर नहीं बढ़ सका तथा रोजगार के अवसर सर्जित नहीं हो सके।

➠1991 में भारतीय अर्थव्यवस्था में एक संकट उत्पन्न हो गया था जिसके बाद आर्थिक सुधार लागू किये गये तथा अर्थव्यवस्था का झुकाव पूंजीवाद की ओर होने लगा था।

➠चीन के द्वारा 1978 में आर्थिक सुधार लागू किय गये थे।


Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad