Ads Area

शैव धर्म

शैव धर्म (Shaiv Dharma)-

  • शैव धर्म का विकास शुंग एवं सातवाहन वंश के समय हुआ था।
  • रेनिगुंटा (चेन्नई) से गुडीमल्लम शिवलिंग प्राप्त हुआ है।
  • रेनिगुंटा वर्तमान में आध्र प्रदेश राज्य के चित्तूर जिले में स्थित एक नगर का नाम है।
  • गुडीमल्लम शिवलिंग भगवान शिव की सबसे प्राचीन मूर्ति है।
  • ऋग्वेद में रुद्र (शिव) का उल्लेख मिलता है।
  • मत्स्य पुराण में भगवान शिव के आठ रूपों का उल्लेख मिलता है।


शैव धर्म में कई सम्प्रदाय है जैसे-

  • 1. पाशुपत पंथ या पाशुपत सम्प्रदाय
  • 2. कश्मीरी शैव सम्प्रदाय
  • 3. नाथ पंथ या नाथ सम्प्रदाय
  • 4. लिंगायत सम्प्रदाय
  • 5. कापालिक सम्प्रदाय
  • 6. कालामुख सम्प्रदाय


1. पाशुपत पंथ या पाशुपत सम्प्रदाय-

  • शैव धर्म के पाशुपत सम्प्रदाय का संस्थापक लवकुलीश या लकुलीश था।
  • लवकुलीश को भगवान शिव का 18वां अवतारों में से एक माना जाता है।
  • पाशुपत सम्प्रदाय के अनुयायियों को पंचार्थिक कहा जाता है।
  • पाशुपत सम्प्रदाय शैव धर्म का सबसे प्राचीन सम्प्रदाय माना जाता है।
  • शैव धर्म के पाशुपत सम्प्रदाय का मूल ग्रंथ पाशुपत सूत्र है।


2. कश्मीरी शैव सम्प्रदाय-

  • शैव धर्म के कश्मीरी शैव सम्प्रदाय का संस्थापक वसुगुप्त था।
  • कश्मीरी शैव सम्प्रदाय के अनुयायी दार्शनिक एवं ज्ञानमार्गी होते है।
  • शैव सम्प्रदाय के संस्थापक वसुगुप्त के कल्लट और सोमानन्द दो प्रसिद्ध शिष्य थे।


3. नाथ पंथ या नाथ सम्प्रदाय-

  • शैव धर्म के नाथ सम्प्रदाय का संस्थापक मत्स्येन्द्र नाथ जी (मछेन्द्र नाथ जी) थे।
  • नाथ सम्प्रदाय के संस्थापक मत्स्येन्द्र नाथ जी के शिष्य गोरखनाथ जी थे।
  • गोरखनाथ जी ने नाथ सम्प्रदाय को लोकप्रिय बनाया था।
  • नाथ सम्प्रदाय का मुख्य केन्द्र गोरखपुर है।
  • गोरखपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक नगर है।
  • नाथ सम्प्रदाय के साधु या संत कठोर जीवन एवं यात्रा में विश्वास करते है।
  • नाथ सम्प्रदाय को योगिनी कौल सम्प्रदाय भी कहा जाता है।


4. लिंगायत सम्प्रदाय-

  • शैव धर्म के लिंगायत सम्प्रदाय के संस्थापक ऋषि अल्लभ एवं महात्मा बसवण्ण या बासवराजा थे।
  • लिंगायत सम्प्रदाय के अनुयायी केवल भगवान शिव में विश्व करते थे।
  • लिंगायत सम्प्रदाय के अनुयायी मूर्ति पूजा नहीं करते है।
  • लिंगायत सम्प्रदाय में मृत व्यक्ति के शरीर को दफनाते है।
  • लिंगायत सम्प्रदाय दक्षिण भारत में सर्वाधिक लोकप्रिय है।
  • लिंगायत सम्प्रदाय दक्षिण भारत में भी कर्नाटक राज्य में सर्वाधिक लोकप्रिय माना जाता है।


5. कापालिक सम्प्रदाय-

  • कापालिक सम्प्रदाय अतिवादी सम्प्रदाय है।
  • कापालिक सम्प्रदाय के अनुयायी भैरव जी की पूजा करते है।


6. कालामुख सम्प्रदाय-

  • कालामुख सम्प्रदाय अतिवादी सम्प्रदाय है।

Post a Comment

0 Comments