राजस्थान का एकीकरण

👉 एकीकरण का एकीकरण महत्वपूर्ण तथ्य-
✍ आजादी के समय राजस्थान मे 19 रियासत व 3 ठिकाने तथा 1 केन्द्रशासित प्रदेश था।

👉 राजस्थान एकीकरण के समय तीन ठिकाने-
1. लावा (जयपुर)
2. कुशलगढ़ (बाँसवाड़ा)
3. नीमराना (अलवर)

👉 राजस्थान एकीकरण के समय एक चीफ कमीश्नरी क्षेत्र-
1. अजमेर (मेरवाड़ा)

👉 एकीकरण के समय की महत्त्वपूर्ण रियासते-
✍ सबसे प्राचीन रियासत मेवाड़ थी।
✍ सबसे बड़ी रियासत मारवाड़ थी।
✍ सबसे छोटी रियासत शाहपुरा थी।
✍ सबसे नई रियासत झालावाड़ थी। (यह कोटा से अलग हुई थी)

👉 राजस्थान के एकीकरण समय के महत्त्वपूर्ण तथ्य-
✍ राजपुताना की रियासतो को एक इकाई के रूप मे संगठित करने का कार्य कोटा के महारावल भीमसिंह द्वारा किया गया
✍ मेवाड़ के राणा भूपालसिंह ने राजस्थान युनियन बनाने का निर्णय लिया था जिसके लिए 25 व 26 जून 1946 को उदयपुर मे राजाओ का एक समेलन हुआ।
✍ जयपुर के महाराजा मानसिंह द्वितिय ने राजपूताना संघ बनाने का प्रयास किया।
✍ धौलपुर नरेश उदयभान सिंह और जोधपुर नरेश हनुमन्त सिंह पाकिस्तान मे मिलना चाहते थे।

👉 शाहपुरा (किशनगढ़)-
✍ यह एकमात्र ऐसी रियासत थी जिसे तोपो की सलामी का अधिकार नहीं था।

👉 रियासती विभाग-
-देशी रियासतो के मामले को हल करने के लिए 5 जुलाई 1947 को सरदार पटेल के नेतृत्व मे रियासती विभाग कि स्थापना कि गई।
-रियासती विभाग के सचीव V.P. मेनन थे।

👉 प्रथम व अंतिम शासक-
✍ बीकानेर नरेश शार्दुलसिंह एक्सेज पर हस्ताक्षर करने वाले प्रथम शासक थे जिन्होने 7 अगस्त 1947 को हस्ताक्षर किये थे।
✍ धौलपुर नरेश उदयभान सिंह एक्सेज पर हस्ताक्षर करने वाले अंतिम शासके थे जिन्होने 14 अगस्त 1947 को हस्ताक्षर किये थे।

👉 राजस्थान एकीकरण का समय-
✍ राजस्थान का एकीकरण कुल 7 चरणो मे पुरा हुआ।
✍ राजस्थान का एकीकरण 18 मार्च 1948 से प्रारम्भ होकर 1 नवम्बर 1956 तक चला।
✍ राजस्थान एकीकरण में कुल 8 वर्ष, 7 माह, व 14 दिन लगे थे।

👉 एकीकरण में शामिल अंतिम रियासत-
✍ एकीकरण कि प्रक्रिया मे सबसे अंतिम रूप से शामिल होने वाली रियासत देलवाड़ा, आबू (सिरोही) थी।

👉 सिरोही का विलय-
✍ राजस्थान मे सिरोही का विलय दो चरणो मे पुरा हुआ।
✍ शंकर देव समिति की सिफारिस पर सिरोही को राजस्थान मे मिलाया गया था।
✍ गोकुल भाई भट्ट के प्रयासो से देलवाड़ा, आबू राजस्थान मे शामिल किए गये।

👉 भाषा आधार-
✍ मत्स्य संघ कि दो रियासते भरतपुर व धौलपुर भाषा के आधार पर उत्तरप्रदेश मे मिलना चाहती थी।

👉 बांसवाड़ा-
✍ बांसवाड़ा के महारावल चन्द्रवीर ने विलय पत्र पर हस्ताक्षर करते हुए कहा मैं अपनी मृत्यु दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर रहा हुँ।

2 comments:

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।