Type Here to Get Search Results !

रक्त परिसंचरण तंत्र (Blood Circulatory System)

 रक्त परिसंचरण तंत्र

(Blood Circulatory System)


रक्त परिसंचरण तंत्र (Blood Circulatory System)-

  • मनुष्य के शरीर में रक्त का परिसंचरण आवश्यक है ताकि पोषक पदार्थ, ऑक्सीजन, ग्लूकोज तथा हार्मोन का पूरे शरीर में वितरण हो सकते और मनुष्य के शरीर की सभी कोशिकाएँ लगातार कार्य कर सकें। अर्थात् रक्त परिसंचरण तंत्र अंगों का वह समूह है जो शरीर की कोशिकाओं के बीच पोषक तत्वों का यातायात करता है।


रक्त परिसंचरण की खोज (Discovery of the Circulation of the Blood)-

  • रक्त परिसंचरण की खोज विलियम हार्वे (William Harvey) के द्वारा की गई थी।
  • विलियम हार्वे (William Harvey) ने रक्त परिसंचरण की खोज 1628 ई. में की थी।


रक्त परिसंचरण तंत्र के कार्य (Function of Blood Circulatory System)-

  • रक्त परिसंचरण तंत्र का कार्य शरीर के प्रत्येक भाग तक रक्त को पहुँचाना है। जिससे मनुष्य के शरीर को पोषण और ऑक्सीजन प्राप्त हो सकें।


रक्त परिसंचरण तंत्र का केन्द्र (Center of Blood Circulatory System)-

  • मनुष्य के शरीर में रक्त परिसंचरण तंत्र का केन्द्र हृदय होता है।

  • हृदय मनुष्य के शरीर में रक्त को लगातार पंप करता रहता है ताकि रक्त मनुष्य के शरीर में सभी अंगों को मिलता रहें।


रक्त परिसंचरण तंत्र के भाग (Parts of Blood Circulatory System)-

  • मनुष्य का रक्त परिसंचरण तंत्र निम्नलिखित भागों से मिलकर बना होता है।
  • (1) रक्त (Blood)
  • (2) रक्त वाहिनी (Blood Vessel)
  • (3) हृदय (Heart)


महत्वपूर्ण लिंक (Important Link)-

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad