राठौड़ वंश

 राठौड़ वंश


राठौड़ वंश-

➠'राठौड़' शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के 'राष्ट्रकूट' शब्द से हुई है।

➠'राष्ट्रकूट' शब्द का प्राकृत रूप 'रट्टऊड' होता है तथा 'रट्टऊड' से ही 'राडउड' या 'राठौड़' शब्द बना है।

➠राजस्थान में मारवाड़ (जोधपुर), बीकानेर तथा किशनगढ़ रियासतों पर ही राठौड़ वंश का शासन था।


राठौड़ वंश की उत्पत्ति से संबंधित निम्नलिखित मत प्रचलित है।-


हिरण्यकश्यप-

➠भाटों की पोथियों के अनुसार राठौड़ों को हिरण्यकश्यप की संतान माना जाता है।


सूर्यवंशी-

➠दयालदास की ख्यात में राठौड़ों को सूर्यवंशी बताया है तथा ब्राह्मण भल्लाराव की संतान माना है।


कन्नौज तथा महाराष्ट्र-

➠राजस्थान में राठौड़ वंश की उत्पत्ति कन्नौज (उत्तर प्रदेश) के गहडवाल वंश तथा दक्षिण भारत (महाराष्ट्र) के राष्ट्रकूट वंश से मानी जाती है।


गहडवाल वंश-

➠कन्नौज में गहडवाल वंश का शासन था।

➠कन्नौज भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित है।

➠पृथ्वीराज रासो, मुहणौत नैणसी तथा जोधपुर राज्य की ख्यात के अनुसार राठौड़ों को कन्नौज से आया हुआ माना जाता है।


राष्ट्रकूट वंश-

➠राष्ट्रकूट वंश का शासन दक्षिण भारत में था।

➠राष्ट्रकूट वंश ने अपनी राजधानी महाराष्ट्र को बना रखा था।


जयचंद का वंशज-

➠कर्नल जेम्स टाॅड ने ख्यातों के आधार पर राठौड़ों को जयचंद का वंशज माना है।

➠विश्वेश्वर नाथ रेऊ के अनुसार राठौड़ जयचंद के वंशज है।


बदायूं के राठौड़ों का वंशज-

➠डाॅ. गौरीशंकर हीराचंद ओझा ने राजस्थान के राठौड़ों को बदायूं के राठौड़ों का वंशज सिद्ध किया है।


राजस्थान में राठौड़ वंश की रियासते-

1. मारवाड (जोधपुर)

2. बीकानेर

3. किशनगढ़

No comments:

Post a Comment

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपको ये पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और अपना कीमती सुझाव देने के लिए यहां कमेंट करें, पोस्ट से संबंधित आपका किसी भी प्रकार का सवाल जवाब हो तो कमेंट में पूछ सकते है।